भोपाल । कोरोना के कहर से हर कोई परेशान है। ये खतरनाक वायरस कब, किसको चपेट में ले ले कुछ भी कहा नहीं जा सकता है। मध्यप्रदेश में कोरोना ने लगभग पचास विधायकों को लपेटे में ले लिया है।
देश के कई राज्यों की तरह मध्य प्रदेश में भी कोरोना वायरस का संक्रमण कहर बरपा रहा है। राज्य में बड़ी संख्या में विधायक इसकी चपेट में आ रहे हैं। हाल ये है कि इस समय राज्य में लगभग पचास विधायक कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जिनमें से एक का इस खतरनाक वायरस के चलते निधन भी हो गया है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण मध्यप्रदेश विधानसभा का सत्र अब सिर्फ एक दिन का रखा जाएगा।

नेताओं में कोरोना का खौफ इस कदर है कि सभी दलों के नेताओं ने इस पर अपनी सहमति दे दी है। गौरतलब है कि राज्य के एक विधायक गोवर्धन सिंह दांगी का कोरोना के चलते दिल्ली में निधन भी हो गया है। सर्वदलीय समिति की बैठक में आगामी सत्र को लेकर तय हुआ कि विधानसभा का सदन सीमित दायरे में होगा। जो सदस्य जुड़ना चाहेंगे, उन्हें वर्चुअल तरीके से जोड़ा जाएगा। प्रश्नकाल नहीं होगा, मगर सदन के पटल पर जो बात आ जाएगी, उसके जवाब दिए जाएंगे।