कोरबा । बारिश का मौसम खत्म होने के बाद भी रोज दर्जन भर से ज्यादा सांप निकलने की जानकारी सामने आ रही हैं। जिले में अजगर और कोबरा की संख्या ज्यादा है। अगर अजगर की लंबाई 12 फीट से अधिक हो तो कोई भी देख कर डर जाए।
गोकुल नगर से सभी लोग दूध का व्यवसाय करते हैं। वहां सभी के पास मावेशी हैं ,जिनसे गोबर बहुत अधिक मात्रा में होता हैं। जिसे एकत्रित कर छेना (कांडा) बना के लिए रखते हैं। दूध व्यवसाय सोनू शर्मा शुक्रवार को सुबह जब अपने कंडे के ढेर के पास पहुंचा तो उसके होस उड़ गए। कंडे के नीचे एक विशाल काय अजगर बैठा था। अजगर दिखने की बात पूरे गोकुल नगर में आग की तरह फ़ैल गई। जिसके बाद वहां के लोगों ने स्नेक रेस्क्यू टीम के प्रमुख जितेंद्र सारथी को तत्काल इस की सूचना दी। जिसके बाद जितेंद्र सारथी अपने टीम के एक सदस्य राजू बर्मन के साथ मौके पर पहुंचे। उनका कहना है कि काफी दिन से यह अजगर यहां हैं ,जिसको भरपूर मात्रा में शिकार मिल रहा था । जितेंद्र ने रेस्क्यू शुरू किया और बड़ी आसानी से विशाल अजगर कों अपने काबू में कर लिया। यह देख लेगा आश्चर्य चकित रह गए। जितेंद्र सारथी ने आस -पास में साफ सफाई रखने कि बात भी कही। रेस्क्यू ऑपरेशन खतम होने के बाद पूरे गोकुल नगर के लोगों ने राहत की सांस ली।