कवर्धा। कवर्धा में हिंसा मसले में पुलिस की ओर से दर्ज एफ़आइआर में सांसद संतोष पांडेय,पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, पूर्व विधायक अशोक साहू और मोती राम चंद्रवंशी समेत विहिप भाजपा और भाजयुमो के ज़िला और प्रदेश प्रभारी शामिल हैं। विदित हो कि बीते पाँच अक्टूबर को झंडे के अपमान का विरोध करने के दौरान युवक पर जानलेवा हमला हुआ और उस पर पुलिस कार्यवाही ना होते देख नागरिक आक्रोशित हो गए। जिसके बाद स्थिति तनावपूर्ण होने के साथ साथ बिगड़ती चली गई। जिसके बाद पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ गया। स्थिति इतनी ज़्यादा बिगड़ी कि प्रशासन ने कर्फ़्यू तो लगाया ही साथ ही कबीरधाम समेत तीन ज़िलों में इंटरनेट पर रोक लगा दी। इस मामले में कवर्धा पुलिस ने क़रीब 59 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी।इन सबके ख़िलाफ़ 147,148,149,153 क,188,295,332,353,109, और लोक संपत्ति क्षति धारा 3 की धाराएँ लगाई गई थीं।

इसी एफआईआर में क़रीब चौदह नाम और जोड़े गए हैं। ये नाम इस प्रकार से है

सांसद संतोष पांडेय, पूर्व सांसद अभिषेक सिंह मोती राम चंद्रवंशीपूर्व विधायकपंडरिया,अशोक साहू पूर्व विधायक कवर्धा, अनिल ठाकुर ज़िला भाजपा अध्यक्ष, विजय शर्मा प्रदेश मंत्री भाजपा, पन्ना चंद्रवंशी, नंदलाल चंद्राकर विहिप ज़िला अध्यक्ष,हुमन पांडेय, भुवनेश्वर चंद्राकर, राहुल चौरसिया कैलाश चंद्रवंशी युवा मोर्चा प्रदेश मंत्री,पीयूष ठाकुर भाजयुमो ज़िला अध्यक्ष राजेश चंद्रवंशी बोड़ेला हिंदु सम्मेलन संयोजक। सांसद संतोष पांडेय ने एफआईआर में नाम जोड़े जाने की पुष्टि करते हुए दावा किया कि उनके सहयोगी के पास एफआईआर की कॉपी उपलब्ध है, जिनमें ये सारे नाम दर्ज है। पुलिस की एफआईआर में नाम जोड़े जाने से क्षुब्ध सांसद संतोष पांडेय ने कहा “थाने के बाहर उत्तेजक नारे लगे, पत्थर चले, पुलिस खड़ी रही छूरे तलवार लहराते रहे, किसी पर भी कोई कार्यवाही नहीं। दुर्गेश की हत्या की कोशिश हुई किसी आरोपी पर कोई कार्यवाही नहीं। पर भाजपा भाजयुमो विहिप सबकी प्रथम पंक्ति पर एफआईआर कर दी गई है, मुझे ये जानना है कितना दबाएँगे हमको.. किसको कितना खूश करेंगे कोई सीमा है”

Previous articleCG हाईकोर्ट करेगा फर्जी अस्पताल घोटाले की सुनवाई:रिटायर्ड IAS अफसरों पर हजार करोड़ के घोटाले का आरोप; सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पूर्व CS का पक्ष भी सुनें
Next articleरणजीत हत्याकांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सहित पांच लोग दोषी करार, 12 को सुनाई जाएगी सजा