इस्लामाबाद। अफगानिस्तान के काबुल में बृहस्पतिवार को एक धार्मिक केंद्र पर किए गए बम विस्फोट में तालिबान के एक प्रतिष्ठित मौलाना की मौत हो गई। अधिकारियों ने बताया कि मौलाना की पहचान रहीमुल्ला हक्कानी के तौर पर हुई है जो पाकिस्तान के दारूल उलूम हक्कानिया से पढ़े थे। यह एक इस्लामी विश्वविद्यालय है जिसका अरसे से तालिबान के साथ संबंध रहा है। तालिबान के उप प्रवक्ता बिलाल करीमी ने हक्कानी की मौत की पुष्टि की और उन्हें एक महान व्यक्तित्व और बड़ा विद्वानÓ बताया। करीमी ने कहा, दुश्मन के क्रूर हमले में हक्कानी की मौत हुई है। हत्याकांड की तत्काल किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है। हालांकि आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट से संबद्ध स्थानीय संगठन तालिबान और नागरिकों को तब से निशाना बना रहा है जब से तालिबान ने पिछले साल अगस्त में देश की सत्ता पर कब्जा किया था।