मालखरौदा। बरसात में क्षेत्र के नहर मार्गो की स्थिति काफी दयनीय हो चुकी है । ग्रामीण वितरक नहर पार हो या शाखा नहरों की पहुंच मार्ग सभी नहर पार की स्थिति काफी खराब है। नहर पार की मरम्मत के लिए जनप्रतिनिधियों के द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है । नहरपार मार्ग पर आवागमन करने वाले राहगीरों को काफी दि-तों का सामना करना पड़ रहा है ।
नहरपार मार्गों में मुख्य रूप से पोता-पिहरीद – कुरदा ग्रामीण वितरक नहर , फगुरम – बोकरेल मुख्य नहर मार्ग , पोता -मुक्ता शाखा नहर, मोहतरा – पोता शाखा नहर सहित ऐसे ही कई अन्य मुख्य ग्रामीण वितरक नहर मार्ग व शाखा नहर मार्ग की स्थिति बारिश के दिनों में काफी दयनीय हो चुकी है। इन मार्गों में प्रतिदिन सैकड़ों लोगों का आवागमन होता है । खासकर पोता – कुरदा ग्रामीण वितरक नहर पार पोता से पिहरीद-कुरदा तक लगभग 10 किलोमीटर तक बड़े बड़े गड्ढे और दलदल कीचड़ से सराबोर हो गया है । इसमें प्रतिदिन 500 लोगों का आना जाना लगा रहता है । नहर पार से आने जाने में लोगों को काफी सहुलियत होती है इसमें ग्राम चरौदा, चरौदी, बड़ेपाडरमुड़ा, पोता, मुक्ता, जमगहन, किरारी, किरकार, दलालपाली के लोग प्रतिदिन मालखरौदा मेनरोड तक इसी नहर पार से आना जाना करते हैं। मार्ग की मरम्मत की ओर न ही कोई क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि ध्यान दे रहे और न ही शासन प्रशासन कोई ठोस कदम उठा रहा है । जिसके चलते क्षेत्र के लोगों में काफी नाराजगी है। कीचड़ को देखते हुए नहर मार्गों में आवागमन करने वाले राहगीरों को मुख्य सडक़ से आवागमन करने में कई किलोमीटर अधिक दूरी तय करनी पड़ती है। नहर मार्गो में बड़े -बड़े गड्ढे व कीचड़ से चलना दूभर हो गया है । नहर मार्गो में आने जाने वाले लोगों को काफी सहूलियत होती है किंतु मार्गों की खराब स्थिति होने की वजह से अब उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है । बरसात में ही नहीं बल्कि सूखे दिनों में भी धूल व बड़े बड़े गड्ढों से परेशानी होती है ।