पावर प्लांट का विजिट करने के दौरान मधुमक्खियों ने किया हमला
कोरबा, [एजेंसी]।
धुमक्खियों के छत्ते से बाहर आकर बौराने की घटनाओं के नतीजे अक्सर भयावह होते हैं। महाराष्ट्र के अमरावती में पावर प्लांट में मधुमक्खियों के अचानक उग्र होने की घटना में कोरबा के एक युवा उद्यमी की आखिरकार जान चली गई। उसके सहित दो उद्यमी बुरी तरह जख्मी हो गए थे। दूसरा उद्यमी आईसीयू में भर्ती है। जबकि एक अन्य इस घटना में देवयोग से बच गया।
महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र अंतर्गत अमरावती शहर में शुक्रवार को दोपहर 3 बजे यह घटना हुई। वहां निजी बिजली संयंत्र बेचा जा रहा है। पिछले दिनों इसके लिए ऑफर दिया गया था। इसके अंतर्गत कई उद्यमी सामने आए। निर्माणी इकाई प्रस्तावकों को प्लांट का विजिट कराने के साथ उन्हें इससे जुड़ी जानकारी देने में लगा हुआ है।
इसी कड़ी मेंं कोरबा के उद्यमी नितेश अग्रवाल (मोनू) 35 वर्ष पिता राजकुमार अग्रवाल (एससीसी), रायपुर निवासी व्यवसायी पोद्दार और बिलासपुर के व्यवसायी सतीश अग्रवाल अमरावती गए हुए थे। शुक्रवार को दोपहर ये पावर प्लांट का निरीक्षण करने के लिए मौके पर पहुंचे। काफी उंचाई वाले हिस्से में इन्होंने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी। वहां काफी समय से मधुमक्खियों का छत्ता बना हुआ था। उनके व्यवहार को लेकर ये लोग अंजान थे। दोपहर में विजिट के दौरान ही छत्ते से मधुमक्खियां बाहर आ गई और इन लोगों पर टूट पड़ी। अप्रत्याशित हमले में 35 वर्षीय नितेश अग्रवाल और उसके साथ पोद्दार गंभीर रूप से मूर्छित हो गए। उनके अन्य साथियों ने खुद को सुरक्षित किया। आनन-फानन में कुछ लोगों को मदद के लिए बुलाया गया। स्थिति को नियंत्रित करने के बाद दोनों पीडि़तों को अमरावती के अस्पताल में भर्ती कराया गया।
खबर के अनुसार इस घटना के दरमयान नितेश को दिल का दौरा भी पड़ा। डॉक्टरों के काफी प्रयासों के बावजूद पिछली रात उसकी मृत्यु हो गई। वहीं दूसरे घायल पोद्दार का उपचार जारी है। उसे विशेष निगररानी में रखा गया है। घटना की सूचना यहां मिलने पर परिजनों और शुभचिंतकों में शोक छाया हुआ है। नितेश के दो बच्चे हैं। इससे पहले सूचना मिलने पर मृतक नितेश के बड़े भाई रात में ही महाराष्ट्र पहुंच गए थे। आज देर रात तक मृतक का शव कोरबा पहुंचने की संभावना है। कल सुबह उनका अंतिम संस्कार मोतीसागरपारा मुक्तिधाम में किया जाएगा।