वाशिंगटन, २९ जून ।
अरब क्षेत्र में अब एक नए युद्ध के लिए बिसात बिछनी शुरू हो गई है। अमेरिका ने अपने युद्धपोत यूएसएस वैस्प को पूर्वी भूमध्य सागर में भेजा है। यह स्थान लेबनान के नजदीक है। ऐसा अमेरिका ने इजरायल की कार्रवाई को अपने समर्थन के प्रतीक के तौर पर किया है। इससे पहले गाजा पट्टी पर हमले के समय अमेरिका ने नजदीक के भूमध्य सागर में अपना विमानवाहक युद्धपोत तैनात कर इजरायली कार्रवाई के प्रति समर्थन जताया था। हाल ही में इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने लेबनान के सशस्त्र संगठन हिजबुल्ला के साथ युद्ध छिडऩे के संकेत दिए थे। इसके लिए उन्होंने देश की उत्तरी सीमा पर सैन्य टुकडिय़ां और हमलावर दस्ते भेजने की बात कही थी।ईरान समर्थित हिजबुल्ला गाजा में इजरायली हमले के विरोध में आठ अक्टूबर, 2023 से इजरायल पर हमले कर रहा है। इजरायल भी हिजबुल्ला के ठिकानों पर जवाबी हमले कर रहा है और इन हमलों में सैकड़ों हिजबुल्ला लड़ाके मारे जा चुके हैं लेकिन हिजबुल्ला के इजरायल पर हमले नहीं रुके हैं। अब जबकि गाजा में इजरायली कार्रवाई लगभग पूरी होने के करीब है तब इजरायल लेबनान में कार्रवाई पर विचार कर रहा है।
इस स्थिति में अमेरिकी सेनाओं के प्रमुख जनरल सीक्यू ब्राउन ने कहा है कि लेबनान में इजरायल की सैन्य कार्रवाई के दौरान ईरान हिजबुल्ला के समर्थन में आगे आ सकता है।ऐसे में क्षेत्र में युद्ध फैलने का खतरा पैदा हो जाएगा। इस खतरे को दूर करने के लिए अमेरिका ने क्षेत्र में अपना युद्धपोत तैनात किया है। कुछ और युद्धपोतों को अपनी स्थिति बदलने के लिए कहा गया है।