कोरबा। बालकोनगर के ग्रामीण क्षेत्रों मेें हाथियों के बाद अब भालुओं का आतंक शुरू हो गया है। बीती रात उत्पाती भालू ने निकटस्तथ ग्राम बेला में एक वद्धा पर हमला बोल दिया। जिससे वह लहू-लुहान हो गई। उसे उपचार के लिए 112 वाहन की मदद से जिला चिकित्सालय ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान मौत हो गई। वन विभाग की ओर से पहले उसके उपचार के लिए 500 रूपए तथा मौत के बाद परिजनों को 25 हजार रूपए की सहायता राशि उपलब्ध करा दी गई है। इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार भालू के हमले की यह घटना कोरबा वन मंडल के बालकोनगर परिक्षेत्र अंतर्गत ग्राम बेला में गुरूवार की रात 9.15 बजे के लगभग घटित हुई, जिसमें गुरूवारी बाई नामक 70 वर्षीय वृद्धा की मौत हो गई। खबरों में बताया गया कि मुलत: ग्राम सोनपुरी निवासी गुरूवारी बाई पति स्व. सुरीत राम राठिया अपनी बेटी मेहतरीनबाई के घर बेला में पिछले दो वर्षों से रह रही थी। गांव में बुधवार को गौरी-गौरा पूजन का कार्यक्रम रखा गया था। बुधवार रात व गुरूवार को दिन में कार्यक्रम संपन्न होने के बाद रात में गांव के पवन राठिया के यहां खाना का कार्यक्रम रखा गया था। जिसमें शामिल होने गुरूवारी बाई सायं 7.30 बजे गई हुई थी। खाना खाने के बाद जब वह रात 9.15 बजे अपने घर वापस लौट रही थी तभी रास्ते में उसका सामना एक खूंखार भालू से हो गया। खूंखार भालू ने उस पर हमला कर चेहरे व अन्य हिस्से को बूरी तरह नोच डाला। भालू के हमले में महिला लहू-लुहान हो गई। किसी तरह उसने अपने-आपको भालू के चंगूल से छुड़ाया और कहराते हुए लहू-लुहान अवस्था में समीप स्थित कार्तिकराम के घर को खटखटाई और घटना की जानकारी दी। अभी वह घटना का विस्तार से वर्णन कर रही थी कि अचानक वह बेहोश होकर गिर पड़ी। तत्काल कार्तिकराम ने वृद्धा की बेटी व दमाद को जानकारी देने के साथ ही पुलिस के 112 वाहन को बुलाया और उसमें भरकर उपचार के लिए जिला चिकित्सालय ले जाया गया। इस बीच वन विभाग के अधिकारियों को भालू के हमले में वृद्धा के घायल होने की जानकारी मिल गई, जिस पर वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी अस्पताल पहुंचे और उपचार के लिए तात्कालिक तौर पर रूपए 500 की तात्कालिक सहायता राशि उपलब्ध कराई। जिला अस्पताल में वृद्धा का उपचार चल ही रहा था कि रात 11 बजे एका-एक उसकी तबीयत बिगड़ी और मौत हो गई। वृद्धा की मौत के बाद वन विभाग की ओर से 25 हजार रूपए की सहायता राशि परिजनों को उपलब्ध करा दी गई है। वहीं प्रकरण को तैयार कर आगे की कार्रवाई के लिए भेजी जा रही है। बताया गया कि वृद्धा की मौत पर उसके परिजनों को 6 लाख रूपए का मुआवजा प्रदान किया जायेगा। उधर शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंप दिया गया है।