छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के 35 हजार 161 कृषि पंपों को बिजली का स्थायी कनेक्शन देने की घोषणा की है। इस घोषणा से प्रदेश के हजारों किसानों को राहत मिलने की उम्मीद की जा रही है। विपक्ष काफी समय से बिजली के स्थायी कनेक्शन के आवेदनों को ठंढे बस्ते में डाल दिए जाने का आरोप लगाता रहा है।

विधानसभा के बजट सत्र में चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री किसानों के लंबित आवेदनों पर कार्रवाई करते हुए सभी को बिजली का स्थायी कनेक्शन देने की घोषणा की है। विपक्ष बार-बार इसपर सवाल उठा रहा था। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद कृषि पम्पों के सभी लंबित आवेदनों नये वित्तीय वर्ष में स्थायी बिजली कनेक्शन देने की प्रक्रिया पूर्ण की जायेगी। अधिकारियों ने बताया, इस वर्ष प्रदेश में 10 हजार 504 कृषि पम्पों को स्थायी बिजली कनेक्शन दिया जा चुका है। जिन आवेदनों पर कार्रवाई की घोषणा की गई है उनके आवेदन पिछले कई महीनों से लंबित हैं।

बताया जा रहा है, पिछले कुछ वर्षों में प्रदेश में किसानों ने वर्ष में दो फसल लेने की शुरूआत की है। इसकी वजह से कृषि पम्पों के लिए बिजली के स्थायी कनेक्शन की मांग में लगातार बढ़ रही है।