कोडरमा/ झारखंड के कोडरमा में थर्मल पावर सब स्टेशन प्लांट (KTPS) में गुरुवार को बड़ा हादसा हो गया। यहां 80 मीटर की ऊंचाई से लिफ्ट टूट कर गिर गई । इससे लिफ्ट में सवार निजी कंपनी के एमडी और 3 इंजीनियर की गिरकर मौत हो गई। लिफ्ट टूटने से थर्मल प्लांट की चिमनी बनाने में लगे 100 से ज्यादा मजदूर ऊपर फंस गए। उन्हें रेस्क्यू किया गया है।

जयनगर के बांझेडीह इलाके में DVC (दामोदर वैली कारपोरेशन) का थर्मल पावर सब स्टेशन है। यहां श्री विजया कंस्ट्रक्शन नाम की कंपनी 150 मीटर ऊंची चिमनी का निर्माण करवा रही है। लगभग 80 मीटर तक हो चुके निर्माण का जायजा लेने के लिए कंपनी के MD और तीन इंजीनियर लिफ्ट के सहारे ऊपर गए थे। निरीक्षण के बाद लौटते समय अचानक लिफ्ट का तार टूट गया और सभी लोग नीचे जा गिरे।

हादसे के बाद मची अफरातफरी
हादसे के बाद मौके पर भगदड़ मच गई। आनन-फानन में घायलों को अस्पताल ले जाया गया, पर सभी की रास्ते में ही मौत हो गई। घटना के बाद KTPS के चीफ इंजीनियर उदय कुमार की अध्यक्षता में हाईलेवल कमेटी बनाई गई है। यह कमेटी हादसे के कारणों का पता लगा रही है।

मरने वालों में नागपुर के रहने वाले श्री विजया कंस्ट्रक्शन के MD 42 साल के कृष्णा प्रसाद कोदाली, गया के कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर 30 साल के नवीन कुमार, कर्नाटक के रहने वाले इंजीनियर 30 साल के कार्तिक सागर और 50 साल के डॉ. विनोद चौधरी हैं। सभी अभी तिलैया शहर में किराए के मकान में रहते थे।

चिमनी के काम में लगे लगभग 100 मजदूर फंसे
घटना के वक्त चिमनी के काम में लगभग सौ मजदूर लगे थे। ये काफी ऊंचाई पर काम कर रहे थे। इसी दौरान लिफ्ट के तार टूटने और हादसा होने के बाद वहां अफरातफरी मच गई। इससे ऊपर काम कर रहे मजदूर वहां फंस गए। फंसे मजदूरों को CISF के जवानों ने एक-एक कर उन्हें नीचे उतारा।

मुआवजा देने की मांग
इधर, KTPS में हुई घटना को लेकर एक्टू के जिला संयोजक सह यूनियन सचिव केटीपीएस विजय पासवान ने घटना पर दुख जताते हुए बताया कि प्लांट में सेफ्टी नियमों का उल्लंघन किए जाने के कारण यह घटना घटी है। उन्होंने डीवीसी प्रबंधन से मरने वालों के परिवार को मुआवजा देने की मांग की है।