कोयंबटूर, २६ सितम्बर [एजेंसी]।
तमिलनाडु के मुख्य सचिव वी. इरियनबु ने विभिन्न स्थानों पर पेट्रोल बम फेंके जाने की पृष्ठभूमि में शनिवार को शीर्ष अधिकारियों के साथ कोयंबटूर की कानून-व्यवस्था की स्थिति की जायजा लिया। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के खिलाफ राज्य सहित देशभर में राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) की कार्रवाई के मद्देनजर कई स्थानों पर पेट्रोल बम फेंकने की पृष्ठभूमि में मुख्य सचिव ने कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की है।डिंडीगुल और चेंगलपेट सहित विभिन्न जिलों में रात भर की घटनाओं में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ताओं और उनके समर्थकों की संपत्तियों को भी निशाना बनाये जाने की सूचनाएं मिली हैं। शहर से कई घटनाओं की सूचना मिलने के बाद, अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती के साथ सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। शनिवार को इरियनबु ने कोयंबटूर के जिलाधिकारी जी. एस. समीरन, शहर के पुलिस आयुक्त वी. बालकृष्णन, पश्चिम क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) आर. सुधाकर और पुलिस अधीक्षक वी. बद्रीनारायण के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से स्थिति की समीक्षा की।समीरन ने पत्रकारों से कहा कि मुख्य सचिव ने पिछले दो दिनों में हुई घटनाओं सहित सात घटनाओं के बारे में 17 जिलों के जिलाधिकारियों और शीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि इन सात घटनाओं में कोई हताहत या संपत्ति का बड़ा नुकसान नहीं हुआ है, इसलिए नागरिकों को भयभीत होने की कोई जरूरत नहीं है।आतंकवाद से संबंधित गतिविधियों का कथित रूप से समर्थन करने के लिए पीएफआई के खिलाफ बृहस्पतिवार को एनआईए के छापे के बाद पिछले दो दिनों में डिंडीगुल और चेंगलपेट के अलावा कोयंबटूर और आसपास के इलाकों में भाजपा और आरएसएस के पदाधिकारियों के वाहनों को आग लगा दी गई और उनके घरों पर पथराव किये गये। समीरन ने कहा कि घटना में संलिप्त लोगों की इलाके में लगे सीसीटीवी के जरिये पहचान की जाएगी और उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।समीरन ने कहा कि प्रशासन और पुलिस विभाग ने सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के प्रयास के तहत मुस्लिम और हिंदू प्रतिनिधियों के साथ बैठकें आयोजित की हैं। दक्षिणपंथी संगठन के सदस्यों पर हमलों के सिलसिले में बदमाशों की गिरफ्तारी में देरी के सवाल पर बालकृष्णन ने कहा कि पुलिस ने कुछ अपराधियों की पहचान की है और कुछ दिनों में कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि इन मामलों में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी।उन्होंने कहा कि शहरभर में 3,500 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है और पुलिस विभाग राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों और चौकियों पर लोगों की आवाजाही, खासकर बाहर से आने वालों पर नजर रख रहा है,। समीरन ने कहा कि ऐसे लोगों पर नजर रखने और प्रशासन को सतर्क करने के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया है। इस बीच, सहायक पुलिस आयुक्त (खुफिया) मुरुगावल का तबादला कर दिया गया है।चेन्नई में भाजपा की तमिलनाडु इकाई के अध्यक्ष के. अन्नामलाई ने आरोप लगाया कि पीएफआई के खिलाफ छापेमारी के बाद उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को बेवजह निशाना बनाया जा रहा है। हमलों के पीछे पीएफआई का हाथ होने का संकेत देते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य ने राष्ट्रीय अखंडता के हित में संगठन के खिलाफ कार्रवाई की। अन्नामलाई ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को तमिलनाडु में ”बिगड़ती कानून व्यवस्थाÓÓ की स्थिति पर एक पत्र लिखा है। उन्होंने शाह को भेजे गए पत्र की एक प्रति साझा की।अन्नामलाई ने पत्र में कहा कि पिछले कुछ दिनों में पार्टी के कुछ समर्थकों और उनके परिवारों को अनावश्यक परेशानी का सामना करना पड़ा, क्योंकि पेट्रोल बम से हमले किये गये और कई कार, कार्यालयों तथा अन्य संपत्तियों को आग लगा दी गई। इस बीच, शनिवार तड़के इरोड जिले में अज्ञात लोगों द्वारा भाजपा पदाधिकारी की एक कार में आग लगा दी गई। पुलिस के अनुसार, भाजपा के जिला प्रचार विंग के पूर्व उपाध्यक्ष शिवशेखर (51) सत्यमंगलम कस्बे के पास पुंजई पुलीमपाटी गांव में एक ट्रेवल एजेंसी चलाते हैं। शुक्रवार की रात उन्होंने पांच कार अपने घर के बाहर खड़ी कर रखी थी। शनिवार तड़के करीब दो बजे कुछ बदमाशों ने शिवशेखर की एक कार पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी।
दमकलकर्मी मौके पर पहुंचे और आग पर काबू पाने में कामयाब रहे, लेकिन वाहन पूरी तरह जलकर खाक हो गया। शिवशेखर की शिकायत पर पुंजई पुलीमपाटी पुलिस ने मामला दर्ज किया है।
——————