1999 के बाद दूसरी बार महातूफान का सामना करेगा भारत, सेनाएं अलर्ट

नईदिल्ली, १९ मई [एजेंसी]।
बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवाती तूफान अम्फान अब तेज होने लगा है। खाड़ी के मध्य भाग में रविवार रात ढाई बजे से इसका स्वरूप बड़ा होने लगा। अब यह सुपर साइक्लोन में तब्दील हो गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, पिछले 6 घंटे में तूफान खाड़ी के दक्षिणी इलाके से उत्तर-पूर्व की तरफ मुड़ चुका है। यहीं पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाके हैं। सोमवार शाम 5.30 से रात 11.30 बजे के बीच (6 घंटे में) तूफान 11 किमी/घंटा की रफ्तार से आगे बढ़ा। शाम को ओडिशा तट से इसकी दूरी 700 किलोमीटर थी।1999 के बाद दूसरी बार महातूफान का सामना करेगा भारत।
20 मई की दोपहर तक यह तूफान पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया द्वीप के पास टकरा सकता है। इस दौरान इसकी रफ्तार २७५ किलोमीटर प्रति घंटे होने का अनुमान है। चक्रवात के असर से ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में तेज हवाएं चलने और भारी बारिश की आशंका है। चक्रवाती तूफान उत्तरी ओडिशा के तटीय इलाकों जगतसिंहपुर, केंद्रापरा, भद्रक और बालासोर को भी प्रभावित करेगा।
उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तूफान से निपटने की तैयारियों और इससे पैदा होने वाले हालात का जायजा लेने के लिए गृह मंत्रालय और नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (एनडीएमए) की हाई लेवल बैठक बुलाई। इसके बाद मोदी ने कहा- मैं सभी की सुरक्षा की प्रार्थना करता हूं। केंद्र सरकार की ओर से हर संभव मदद की जाएगी। एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान ने कहा- चक्रवात अम्फान से ओडिशा और पश्चिम बंगाल सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे।
इससे निपटने के लिए ओडिशा में 13 और पश्चिम बंगाल में 17 टीमें तैनात की गई हैं। प्रधानमंत्री के साथ हुई रिव्यु मीटिंग में यह तय किया गया है कि एनडीआरएफ की कुछ टीमें एयरलिफ्ट करने के लिए भी तैयार रहेंगी ताकि आपातकालीन स्थिति में लोगों की मदद की जा सके। भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय मोहपात्रा के मुताबिक, 12 घंटे में यह पूरी तरह से तेज तूफान में बदल जाएगा। अगले 6 घंटों में इसका असर तटीय इलाकों में दिखने लगेगा। तूफान का केंद्र ओडिशा के पारादीप से 980 किमी. दक्षिण,पश्चिम बंगाल के दीघा से 1,30 किमी. दक्षिण-पश्चिम और बांग्लादेश के खेपुपारा से 1,250 किमी. दक्षिण पश्चिम में है।
तूफान से पश्चिम बंगाल के 24 उत्तर और दक्षिण परगना, कोलकाता, पूर्वी और पश्चिमी मिदनापुर, हावड़ा और हुगली में तेज बारिश हो सकती है। ओडिशा में गजपति, गंजाम, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, भ्रदक, मयूरभंज, झुमपुरा, सहारपाड़ा और क्योंझर जिले में गरज-चमक के साथ आंधी, बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।
अम्फान के खतरे के चलते ओडिशा ने 11 लाख लोगों को निकालना किया शुरू
चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ के चलते तेज हवाओं और भारी बारिश की चेतावनी को देखते हुए ओडिशा सरकार ने संवेदनशील इलाकों से 11 लाख लोगों को निकालना शुरू कर दिया है। इन लोगों को अस्थायी शेल्टर होम में पहुंचाया जा रहा है। पश्चिम बंगाल सरकार ने भी निचले इलाकों से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना शुरू कर दिया है।