पटना, 0३ दिसम्बर [एजेंसी]।
बिहार के कुढनी में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करने पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सभा में बवाल हो गया। सीटीईटी और बीटीईटी के अभ्यर्थियों ने जबरदस्त तरीके से मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी की। हालांकि, जदयू कार्यकर्ताओं ने अभ्यर्थियों पर कुर्सियां चलाई, जिसके बाद वे वहां से चले गए। यह वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। अब इसी को लेकर भाजपा ने जबरदस्त तरीके से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। बिहार भाजपा के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने साफ तौर पर सवाल पूछा है कि रोजगार के नाम पर इंतजार का मजा कब तक लेगा युवा उन्होंने इस वीडियो को साझा करते हुए एक ट्वीट किया। अपने ट्वीट में जायसवाल ने लिखा कि नीतीश कुमार जी कुर्सी के पुराने कलाबाज आदमी हैं। कुर्सी से ही बिहार को घायल करते हैं।संजय जायसवाल ने आगे लिखा कि आज पता चला है कि कुढऩी में शिक्षक अभ्यार्थियों को कुर्सी से पिटवाएं है। अब कुर्सी को कुछ दिन हथियार बनाकर सरकार चलाएंगे। वहीं, बिहार बाजपा ने ट्वीट कर लिखा कि कुर्सी कुमार के कार्यकर्ताओं ने कुढऩी में शिक्षक अभ्यार्थियों पर किया कुर्सी से वार। रोजगार मांगने पर कबतक पिटाता रहेगा बिहार का युवा, बताओं ऐ ठगबंधन की सरकार! मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सभा में सीटीईटी और बीटीईटी के अभ्यर्थियों ने जमकर नारेबाजी की। उन्होंने मुख्यमंत्री शर्म करो, डूब मरो के साथ-साथ हाय हाय के भी नारे लगाती है।
इस दौरान एक-दूसरे पर जमकर कुर्सियां भी चली। नारे को सुनने के बाद नीतीश कुमार के समर्थकों की ओर से अभ्यार्थियों के खिलाफ भी कुर्सियां चलाई गई और उन्हें वहां से भगा दिया गया। कुढऩी विधानसभा उपचुनाव को लेकर दोनों ओर से पूरी ताकत लगाई जा रही है। संजय जायसवाल ने प्रचार में कहा कि 2015 के पहले यहाँ के विधायक ऐसे थें कि पूरे राशन का ही घोटाला कर दिए।
उनको दोबारा लाने की सोचना भी आश्चर्यजनक है। मीनापुर में पिछली बार उम्मीदवार बनाएं गए थें लेकिन कुढऩी का हाल देख चुकी, मीनापुर की जनता ने उन्हें वहाँ से खदेड़कर भगाई थी। अब एक बार फिर से वो कुढऩी आ गए हैं। उन्होंने कहा कि मोदी जी ही आएं तो पहली बार केन्द्र सरकार में अलग से मत्स्य विभाग को बना दिया, मोदी जी आएं तो चिंता किए सहनी समाज के पास पैसा जाए।
इसलिए पोखरा और यादव समाज के लिए गाय पालन पर किसान क्रेडिट कार्ड लागू किया। कौन इसके पहले इतना किसी गरीब के लिए सोचता था।