कोरबा। प्रगति नगर हसदेव पुल की अप्रोच रोड ठीक होने और दर्री के हसदेव बैराज मार्ग को बेहतर कर लेने के बाद भी भारी वाहनों की आवाजाही बुधवारी रिकांडो मार्ग से जारी है। सबसे हैरत की बात यह है कि नो एंट्री टाइमिंग में भी यह सब धड़ल्ले से चल रहा है। इन कारणों से कुछ समय पहले ही सुधारा गया रिकार्डो मार्ग पर खतरा मंडरा रहा है।
सेतु निगम छत्तीसगढ़ की मांग पर सरकार के द्वारा उसे पिछले वर्ष प्रगति नगर राताखार क्षेत्र में स्थित हसदेव नदी के नए पुल की अप्रोच रोड के लिए फंड आवंटित कर दिया गया। इसके जरिए काफी समय से लंबित पड़े अप्रोच रोड के निर्माण को पूरा करा लिया गया और अब सभी तरह के वाहनों की आवाजाही बदस्तूर चल रही है। दूसरी तरफ दर्री क्षेत्र में हसदेव बैराज पुल की बदहाली को दूर करने के लिए डिस्टिक माइनिंग फंड से धनराशि आवंटित करने के साथ जरूरी सुधार कार्य करा लिया गया है। बालको नगर क्षेत्र की सड़क में मौजूद समस्याओं को भी निराकृत किया जा चुका है ऐसे में भारी वाहनों को अपने गंतव्य तक जाने के लिए कोई समस्या नहीं है। ट्रांसपोर्ट नगर चौराहा मैं रेलवे क्रॉसिंग के पास जो दिक्कत बनी हुई थी उसका समाधान भी सार्वजनिक उपक्रम की ओर से पिछले दिनों तलाश लिया गया। ऐसी स्थिति में खास तौर पर कोयला लोड और अन्य भारी वाहनों को संबंधित दिशा की तरफ जाने में किसी प्रकार की समस्या नहीं रह गई है। इन सबके बावजूद कोयला लोड वाहनों का संचालन जैन मंदिर बुधवारी बाजार से होकर महाराणा प्रताप प्रतिमा रिकार्डो रोड होकर जारी है। हैरानी जताई जा रही है कि दिन के साथ-साथ नो एंट्री टाइम में भी ऐसे वाहनों का आना जाना इस रास्ते से हो रहा है। इसके चलते रिकांडो रोड पर दबाव न केवल बढ़ा है बल्कि अब एक बार फिर से टूट-फूट के खतरे बढऩे के साथ आने वाले चुनौतियों का खतरा पैदा हो गया है। इस रास्ते पर रिहायशी इलाका भी है। ऐसे में लगातार भारी वाहनों की आवाजाही के कारण दुश्वारियां बनी हुई है। इससे पहले कि इस रास्ते पर हादसे को न्योता मिले, संबंधित विभाग के तंत्र को इस दिशा में नियंत्रण करने की मानसिकता बनाना चाहिए।