पत्नी की पिटाई और बच्चों को कब्जे में रखने के मामले में अपर कलेक्टर सुखनाथ अहिरवार की मुश्किलें बढ़ गयी है। राज्य महिला आयोग ने अपर कलेक्टर सुखनाथ अहिरवार के खिलाफ सस्पेंड करने के साथ-साथ डिमोशन करने की अनुशंसा राज्य सरकार को भेजी है। इस मामले में 14 अक्टूबर को महिला आयोग में सुनवाई हुई थी। सुनवाई के दौरान जिस तरह की शिकायत सुखनाथ अहिरवार को लेकर आयी थी और जो सबूत सामने आये, उसके बाद ही ये तय हो गया था कि अपर कलेक्टर की मुश्किलें बढ़नी तय है। सुनवाई के दौरान अपर कलेक्टर ने महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक तक को धमका दिया।

अपनी अनुशंसा में महिला आयोग ने बेहद ही तल्ख टिप्पणी सरकारी अधिकारी के खिलाफ की है। चीफ सिकरेट्री को भेजी अपनी अनुशंसा में किरणमयी नायक ने कहा कि सुनवाई के दौरान अपर कलेक्टर का व्यव्हार बेहद ही गैर जिम्मेदाराना था। सुनवाई के दौरान दोनों बेटियों को जबरदस्ती उसकी मां से अलग रखने का प्रकरण भी सामने आया।

अहिरवार की पत्नी ने एक साल पहले ही अपने पति की शिकायत की थी, रायगढ़ में की गयी शिकायत में उन्होंने लिखा था कि उनके पति उच्चाधिकारी हैं। उन्होंने दोनों बेटियों को जबरदस्ती अपने पास रखा है और मुझे मारपीट कर घर से निकाल दिया है। हालांकि शिकायत में ये भी कहा गया था कि उनके पति मारपीट उनके साथ करीब 9 साल से कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक अहिरवार की पत्नी का मायका रायपुर में है। करीब एक वर्ष पहले अहिरवार रायगढ़ में पदस्थ थे। पत्नी ने बीते वर्ष नवंबर में वहां चक्रधरनगर थाने में पति व ससुराल वालों पर मानसिक व शारीरिक प्रताड़ना की शिकायत की थी।

पत्नी की शिकायत के बाद महिला आयोग ने 9 अक्टूबर को इस मामले में सुनवाई तय की थी और अपर कलेक्टर को दोनों बेटियों के साथ उपस्थित होने को कहा था, लेकिन वो कोरोना ड्यूटी का बहाना बनाकर नहीं आये। उसके बाद 14 अक्टूबर को फिर सुनवाई की तारीख तय की गयी, इस तारीख को अपर कलेक्टर तो खुद आये, लेकिन अपनी दोनों बेटियों को लेकर नहीं आये। सुनवाई के दौरान पत्नी की सभी शिकायतें सही पायी गयी, जबकि अपर कलेक्टर सुनवाई के दौरान गैर जिम्मेदाराना तरीके से जवाब देते रहे। लिहाजा अपनी अनुशंसा में तल्ख टिप्पणी करते हुए किरणमयी नायक ने लिखा है..

सुखनाथ अहिरवार व अन्य प्रकरण में सुनवाई के दौरान जिम्मेदार शासकीय कर्मचारी सुखनाथ अहिरवार अपर कलेक्टर कोरिया के द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग द्वारा की जा रही सुनवाई की न्यायालीन प्रक्रिया में महिला आयोग के क्षेत्राधिकार को चुनौती नेदा, महिला आयोग की अधिकारिता को इंकार करना और न्यायालीन क्षेत्राधिकार के तहत की जा रही कार्यवाही से पूर्णत: असहयोग करना और आदेश का अपालन कर अमर्यादित आचरण कर शिकायतकर्ता पत्नी को महिला आयोग के समक्ष चुनौती देकर प्रताड़ित करने के संबंध में तत्काल प्रभाव से सुखनाथ अहिरवार अपर कलेक्टर जिला कोरिया को निलंबित किया जाकर उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी विभागीय कार्रवाई किया जाकर इनको पदावनत किये जाने की अनुशंसा की जाती है।