जांजगीर-चाम्पा। जिला पंचायत सीईओ ने जिले के सभी जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने कहा कि विगत वर्ष की तरह इस वर्ष भी किसानों को पैरादान करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। इससे एक ओर किसानों को खेतों में पराली नहीं जलानी पड़ेगी, दूसरी ओर गायों के लिए भी साल भर चारे की व्यवस्था हो सकेगी। गोठान में पैरा आने के बाद उसके रखने के इंतजाम बेहतर किए जाएं। पैरा को अस्थाई मचान बनाकर रखा जाए । उन्होंने पराली जलाने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश भी दिए। जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी तीर्थराज अग्रवाल ने जिले में चल रही योजनाओं की सिलसिलेवार समीक्षा की। उन्होंने राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना के तहत गोठानों में नियमित रूप से गोबर खरीदी करने तथा उसे वर्मी कम्पोस्ट टैंक में डालकर खाद तैयार कर पैकेजिंग कराने के निर्देश दिए। इससे स्व सहायता समूहों को गांव में ही रोजगार मिलता रहेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के चलते गांवों में प्रवासी मजदूर लौटकर आए हैं, ऐसे में उनके जॉब कार्ड बनाकर गांव में ही रोजगार उपलब्ध कराया जाए। इसके लिए जरूरी है कि मनरेगा के तहत अधिक से अधिक मजदूरी मूलक कार्यों को शुरू किया जाए। मनरेगा के माध्यम से नया तालाब निर्माण, डबरी जैसे कार्यों में अधिक श्रमिकों को काम मिलता है, इसलिए पहली प्राथमिकता से इन स्वीकृत कार्यों को प्रारंभ किया जाए। इसके अलावा धान चबूतरा केन्द्र निर्माण, नवीन ग्राम पंचायत भवन, चारागाह, गोठान को जल्द से जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए। बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत स्थायी प्रतीक्षा सूची से अपात्र हितग्राहियों के नाम विलोपित करने कहा। स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण, एनआरएलएम, सांसद, विधायक आदर्श ग्राम योजना की समीक्षा की।