जांजगीर /पुटपुरा स्थित 11वीं वाहिनी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल में मंगलवार की रात 6 आरक्षकों व प्रधान आरक्षकों के सूने घर का ताला तोड़कर आलमारी में रखे सोने-चांदी के जेवर व नगद सहित 5 लाख रुपए का सामान पार कर दिए। वारदात के बाद पुलिस चोरों की तलाश में जुटी है।

एसआई पुष्पराज सिंह ने बताया कि जिला मुख्यालय के समीपस्थ पुटपुटरा बटालियन में पदस्थ आरक्षक स्वरूप नंद कुर्रे अपने घर पर ताला लगाकर अपने गांव पामगढ़ चला गया। मंगलवार की रात अज्ञात चोर कालोनी के पीछे की दीवार से अंदर पहुंचे और उसके सूने मकान का ताला तोड़कर सोने के गहने, 40 हजार रुपए नगद सहित लगभग 2 लाख रुपए का सामान पार कर दिए। इसी तरह आरक्षक रामानुज खरे भी अपने परिवार के साथ घर पर ताला लगाकर दशगात्र में शामिल होने चला गया। उसके सूने मकान का ताला तोड़कर आलमारी में रखे सोने, चांदी के जेवर, 50 हजार नगद सहित लगभग ढाई लाख का सामान पार कर दिया। इसी तरह कालोनी में रहने वाले फार्मासिस्ट मनोज गौतम, आरक्षक शिव कुमार पाण्डेय, सूरज व्यास के मकान के भी ताले टूटे हैं। ब्लाक के जिन घरों में ताले टूटे हैं उसके बगल वाले घरों में चोरों ने बाहर से सिटकनी लगाकर चोरी की है। साथ ही ब्लाक के बाहर पिछले वारदात की तरह पत्थर मिले है। कई मकान मालिक बाहर है, उनके आने के बाद भी चोरी की सही जानकारी मिल पाएगी।

कॉलोनी में बाउंड्री नहीं पीछे के रास्ते से घुसे चोर
बटालियन के सामने लंबी दीवार है, जहां पूरे चौबीसों घंटे सीएएफ के आरक्षक तैनात रहते हैं, मगर दूसरी ओर पीछे की आेर न तो बाउंड्रीवाल है और न ही सुरक्षा का कोई इंतजाम है। यहां सालों बाद भी बांउड्रीवाल का निर्माण नहीं कराया जा रहा है। जिसके चलते चाेर बेखौफ वारदात को अंजाम देकर वापस लौट गए।

घर में आरक्षक के बेटे को देख भागा चोर
आरक्षक शिवकुमार पाण्डेय की ड्यूटी रात्रि गश्त में लगी थी। वह मंगलवार की रात घर के बाहर से ताला लगाकर ड्यूटी पर चला गया। वहीं उसकी पत्नी व बच्चे घर पर थे। इस दौरान शिवकुमार का बेटा पढ़ाई कर रहा था, मगर अचानक दरवाजे से आवाज आई तो उसका बेटा दरवाजे के पास पहुंचा। दरवाजा खुलते ही लड़के को देख चोर मौका देखकर भाग गया।

Previous articleकोरोना संक्रमण:निजी स्कूल की शिक्षिका मिली काेराेना पाॅजिटिव
Next articleबिजली विभाग:जांच के दौरान टीम ने 366 के लोगों पर की कार्रवाई