जनपद पंचायत की पूर्व सदस्य ने लगाया है गंभीर आरोप, प्रमाण बतौर दिए हैं साक्ष्य
पीडि़ता की रिपोर्ट पर कोतवाली थाना में दुष्कर्म का मामला दर्ज

जांजगीर-चांपा। जिले के पूर्व कलेक्टर जेपी पाठक पर बलात्कार का सनसनीखेज आरोप लगा है। 2007 बैच के इस आईएएस अफसर पर जांजगीर-चांपा कलेक्टर रहते हुए बलात्कार का आरोप है। जिस महिला ने ये गंभीर आरोप लगाया है, वो शादीशुदा है और जनपद पंचायत की पूर्व सदस्य भी है। पुलिस को मिली इस शिकायत के समर्थन में महिला ने कई साक्ष्य भी दिए हैं। इधर, शिकायत के बाद कलेक्टर यशवंत कुमार ने एसपी पारूल माथुर को मामले की जांच के निर्देश दे दिए हैं तो वहीं आईएएस पर बलात्कार के आरोप के बाद राज्य सरकार ने भी इस मामले में त्वरित संज्ञान लिया है। दूसरी ओर, पीडि़ता की रिपोर्ट पर कोतवाली थाना जांजगीर में 03 जून 2020 की देर शाम पूर्व कलेक्टर के खिलाफ दुष्कर्म और भयादोहन का मामला दर्ज कर प्रकरण विवेचना में लिया गया है।


महिला का आरोप है कि बीते 15 मई को कलेक्टर जेपी पाठक ने कलेक्टोरेट स्थित अपने चैंबर में उसके साथ शारीरिक संबंध बनाया। आरोप यह भी है कि एनजीओ का काम दिलाने के एवज में कलेक्टर पाठक ने उस महिला को झांसा दिया और उसका बलात्कार किया। आरोप है कि महिला के साथ एक बार नहीं बल्कि, कई बार कलेक्टर पाठक ने शारीरिक संबंध बनाया और बार-बार ये झांसा देते रहे कि जल्द ही उसके एनजीओ को काम दिलवा देंगे, लेकिन करीब डेढ़ महीने बाद भी कलेक्टर पाठक ने महिला को काम नहीं दिलवाया। महिला ने कलेक्टर पाठक के साथ अपनी बातचीत की रिकार्डिंग और कुछ तस्वीरें भी पुलिस को सौंपी है। महिला ने जो बातचीत और मैसेज के सबूत दिए हैं, उसके मुताबिक कलेक्टर पाठक की उससे नियमित बातचीत होती थी। हैरानी की बात ये है कि महिला से ना सिर्फ कलेक्टर पाठक आपत्तिजनक बातें किया करते थे, बल्कि पर्सनल तस्वीरों की भी डिमांड करते थे। कई बार कलेक्टर पाठक ने महिला की प्राइवेट तस्वीरें भी मोबाइल पर मंगवाई थी। बता दें कि 2007 बैच के आईएएस जेपी पाठक का हाल ही में जांजगीर-चांपा के कलेक्टर पद से रायपुर स्थानांतरण हुआ है। उन्हें मंत्रालय में वापस बुलाते हुए भू-अभिलेख में पदस्थ किया गया है। महिला का आरोप है कि ना सिर्फ उससे पर्सनल तस्वीरें मांगी जाती थी, बल्कि कलेक्टर पाठक खुद भी अपनी पर्सनल फोटो भेजते थे। महिला का आरोप है कि जब कलेक्टर पाठक की तरफ से झांसा दिए जाने का अहसास उसे हुआ तो उसने उनसे दूरियां बनानी शुरू कर दी। कलेक्टर पाठक को जैसे ही महिला का बदला व्यवहार नजर आया, तब उन्होंने उसे प्रताडि़त करना शुरू कर दिया। यही नहीं, महिला का आरोप है कि उसके पति को नौकरी से बर्खास्त कराने तक की धमकी दी गई। कलेक्टर पाठक की दबंगई देखकर महिला सहम गई। आरोप है कि आईएएस पाठक के कलेक्टर रहते तक वो चुप रही तो वहीं अब उनका यहां से तबादला होने के बाद उसने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई है। महिला ने जांजगीर थाने में आईएएस पाठक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है, जिस पर कोतवाली पुलिस द्वारा भादवि की धारा 376, 506 एवं 509 ख कायम कर प्रकरण विवेचना में लिया गया है। बहरहाल, इस मामले के प्रकाश में आने के बाद जहां शासन-प्रशासन में हडक़ंप है तो वहीं स्थानीय पुलिस के अलावा शासन स्तर से भी इस मामले की बारीकी से छानबीन शुरू कर दी गई है।
मामले की जांच जारी
जिले की एक पीडि़ता द्वारा पुलिस अधीक्षक जांजगीर-चांपा के समक्ष उपस्थित होकर एक लिखित आवेदन पेश किया गया, जिसमें 15 मई 2020 को पूर्व कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक द्वारा उसके पति को नौकरी से बर्खास्त करने की धमकी देकर कलेक्टोरेट परिसर में उसके साथ बलात्कार किया गया। आरोपी पूर्व कलेक्टर द्वारा धमकी देते हुए जबरन बलात्कार करने एवं मोबाइल में बार-बार अश्लील मैसेज भेजकर धमकी देने के संबंध में पीडि़ता के कथन एवं उसके द्वारा प्रस्तुत मोबाइल स्क्रीन शॉट की छायाप्रति ली गई। पीडि़ता द्वारा प्रस्तुत शिकायत के आधार पर तीन जून 2020 को थाना जांजगीर में पूर्व कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक के खिलाफ अपराध क्रमांक 256/2020, भादवि की धारा 376, 506 एवं 509 ख कायम कर प्रकरण विवेचना में लिया गया है। मामले की विवेचना जारी है।
जितेन्द्र चंद्राकर, एसडीओपी, जांजगीर