कोरबा। बरसात ने बिजली विभाग की व्यवस्था की पोल खोल दी है। जिला मुख्यालय से दूर दर्जनों गांवों में ब्लैकआउट की स्थिति निर्मित हो गयी है। बरपाली विद्युत वितरण केंद्र अंतर्गत ग्राम फरसवानी, देवलापाठ, चिचोली, गितारी, तिलाईभांठा, फुलझर, सहित दर्जनों गांवों में पिछले पांच दिनों से बिजली नही हैं। बिजली नही होने से हज़ारों ग्रामीणों को पीने का पानी तक उपलब्ध नही हो पा रहा है। वही कई ग्रामीणों के घर में विषैले सर्प घुस चुके है। वही सरकारी राशन दुकान में 5 दिनों से बिजली व्यवस्था नही होने से राशन वितरण में समस्या हो रही है। सब स्टेशन प्रस्तावित परंतु अबतक नही बना। ग्राम फरसवानी में बिजली समस्या को देखते हुए सब स्टेशन प्रस्तावित है परंतु अबतक प्रक्रियाधीन है। शासन स्तर पर अबतक सब स्टेशन बनाने की कवायद शुरू नही हुई है जिसको लेकर ग्रामीणों में नाराजगी देखी जा रही है। बिजली समस्या को देखते हुए ग्रामीण बड़ा आंदोलन करने की मंशा बना रहे है। नेशनल हाइवे के ठेकेदार की लापरवाही से ग्रामीण परेशान। कोरबा-चाम्पा मार्ग के नेशनल हाइवे के बिजली ठेकेदारों की लापरवाही से दर्जनों गांवों में ब्लैकआउट की स्थिति निर्मित हो गयी है। बिजली खम्बों में नए स्थानों में स्थानांतरित करने में बिजली ठेकेदार ने बड़ी लापरवाही पूर्वक कार्य किया है। मड़वारानी से बरपाली तक दर्जनों खम्बे पहली ही बरसात में धराशायी हो गए जिसे सुधारने में विद्युत विभाग के पसीने छूट रहे है और अबतक सुधार कार्य जारी है। नेशनल हाइवे के ठेकेदार लगातार अपने कार्यो में लापरवाही बरत रहे है जिससे आम जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। विगत कुछ दिनों पहले ही डायवर्शन सड़क निर्माण को लेकर अपने खराब रैवैये से बरपाली में आर्थिक नाकेबंदी से जनता के आक्रोष का सामना करना पड़ा था। ठेकेदार की लापरवाही से दर्जनों गांवों में बिजली व्यवस्था बाधित है।

Previous articleसीएचसी के नये गेट का उपयोग नहीं, हादसे की आशंका
Next articleपौंसरा में बनेगी सीसी रोड