लखनऊ, २४ नवंबर [एजेंसी]।
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार निवेशकों को आकर्षित करने के लिए लगातार कई कार्यक्रमों का आयोजन कर रही है। इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से वैश्विक निवेशक सम्मेलन की भी तैयारियां जोरों पर है। इसी को लेकर उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने तंज कसा है। उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि यह प्रयास सिर्फ कृषि भूमि के अधिग्रहण और राजनीति तथा चुनावी स्वार्थ तक सीमित नहीं रहना चाहिए। मायावती ने कई ट्वीट किए। अपने ट्वीट में मायावती ने लिखा कि उत्तर प्रदेश में बीएसपी सरकार में लोगों को रोजगार तथा बुनियादी सुविधाओं से युक्त नए पक्के मकान व भूमि आदि भी फ्री में लाखों परिवारों को आवंटित करके यहाँ गरीबों का जीवन धन्य होते हुए सभी ने देखा। उन्होंने सवाल किया कि पहले सपा व अब भाजपा सरकार में भी वैसी खास प्रगति क्यों नहीं। इसके साथ ही मायावती ने आगे लिखा कि यूपी में देशी व विदेशी पूंजीनिवेश के लिए सरकार का अनवरत प्रयास जरूरी, किन्तु यह केवल खेती भूमि के अधिग्रहण तथा राजनीतिक एवं चुनावी स्वार्थ तक ही सीमित नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि यूपी जैसे अति-गरीबों के पिछड़े प्रदेश में डबल इंजन की सरकार में वैसी ही तेज प्रगति भी लोगों को दिखनी चाहिए। बसपा सुप्रिमो ने एक और ट्वीट में अपनी सरकार को बेहतर बताते हुए कहा कि यूपी की समग्र प्रगति, विकास व लोगों की रोजी-रोटी के साथ ही उनकी सुरक्षा व आत्म-सम्मान के लिए बीएसपी की हुकूमत मे जो कुछ खास काम किया वह अपने बलबूते पर किया गया। यमुना के साथ गंगा एक्सप्रेसवे व जेवर एयरपोर्ट भी तब बन जाता अगर केन्द्र की कांग्रेस सरकार ने थोड़ा सहयोग किया होता।दूसरी ओर मंगलवार को उत्तर प्रदेश को देश के विकास का ग्रोथ इंजन बनाने के संकल्प के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2023 के आयोजन की औपचारिक घोषणा की है। जीआईएस 2023 के लोगो का अनावरण करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश आज एक प्रगतिशील परिवर्तनकारी यात्रा के शिखर पर है।