श्रीनगर, १2 अगस्त [एजेंसी]।
कश्मीर में गूंजते राष्ट्रभक्ति के गीत, हर घर पर लहराता तिरंगा और हिंदोस्तान जिंदाबाद के गूंजते नारे सुन आतंकवादी बौखला-से गए हैं। स्वतंत्रता दिवस की खुशियों में खलल डालने के लिए आतंकवादी किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं। लोगों में दहशत पैदा करने के इरादे से आतंकवादियों ने एक बार फिर टारगेट किलिंग के तहत दूसरे राज्य के गरीब श्रमिक नौजवान की जान ले ली। हत्या की यह घटना कश्मीर के बांडीपोरा जिले की है। इस वर्ष अब तक आतंकवादियों ने टारगेट किलिंग के तहत कश्मीर में 25 लोगों की हत्या की है। बांडीपोरा के सोदनारा सुबल में रहने वाले बिहार के श्रमिक युवक को निशाना बनाते हुए देर रात आतंकवादियों ने उसकी हत्या कर दी। श्रमिक की पहचान मोहम्मद अमरेज 19 पुत्र मोहम्मद जलील निवासी मधेपुरा बेसरह बिहार के तौर पर हुई है। पुलिस आतंकवादियों की पहचान करने के लिए आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। अमरेज के साथ रह रहे उसके भाई ने बताया कि यह घटना वीरवार-शुक्रवार की मध्यरात्रि लगभग 12.20 बजे की है। फायरिंग की आवाज सुनकर हमारी नींद खुल गई। हमें लगा कि बाहर आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई है। अचानक मेरी नजर पड़ी की अमरेज उनके साथ नहीं है। पहले तो लगा कि वह शौचालय गया होगा परंतु जब वह काफी देर तक वापस नहीं लौटा तो हम दोनों उसे देखने के लिए बाहर गए।
बाहर प्रांगण में अमरेज खून से लथपथ पड़ा हुआ था। हमने आसपास के लोगों को जगाया और इस बीच पुलिस को भी सूचित कर दिया। उसे हाजिन अस्पताल ले जाया गया। उसकी सांसें चल रही थी। डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे स्किम्स अस्पताल रेफर किया परंतु उसने जख्मों का ताव न सहते हुए अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया।