जांजगीर-चांपा। यदि आप इंट्रीग्रिटी, किलर, और जॉन प्लेयर्स जैसे ब्रांडेड कपड़ों की खरीददारी के शौकीन हैं तो होशियार हो जाएं। वजह, जिला मुख्यालय जांजगीर की कई प्रतिष्ठित दुकानों में ब्रांडेड उत्पादों के टैग लगाकर डुप्लीकेट माल धड़ल्ले से बेचा जा रहा है। ग्राहक भी ब्रांडेड कपड़ों की चाहत में माल की परख न होने से ठगी और धोखाधड़ी का शिकार हो रहे हैं। दरअसल, आगामी दिनों में दशहरा और दीपावली का त्योहार है, जिसके लिए कपड़ा, फुटवेयर, गिफ्ट आइटम, मिठाइयां सहित अन्य उत्पादों का बाजार सजकर तैयार है। त्योहारी सीजन को देखते हुए प्रत्येक सामान में ऑफर चल रहे हैं। चाहे इलेक्ट्रानिक्स हो या फिर कपड़े और गिफ्ट आइटम। कारोबारियों ने ब्रांडेड उत्पादों के टैग लगाकर ग्राहकों को ठगने की पूरी तैयारी कर ली है। जिला मुख्यालय जांजगीर में संचालित कई नामी कपड़ा दुकानों में ब्रांडेड उत्पादों के टैग लगाकर डुप्लीकेट माल बेचा जा रहा है। ऑफर की वजह से ग्राहक भी दुकानदारों के झांसे में आसानी से फंस जा रहे हैं। हद की बात तो यह है कि जिला मुख्यालय के कई कपड़ा व्यवसायी अपने ऑफर की जानकारी लोगों तक पहुंचाने के लिए डोर-टू-डोर प्रचार-प्रसार का नुस्खा अपना रहे हैं। जानकारों की मानें तो ब्रांडेड कंपनियां ऑफर जरूर देती हैं, लेकिन वे कंपनियां इस तरह घूम-घूमकर शहर के गली-कूचों में अपने उत्पाद का प्रचार-प्रसार नहीं करवाती। मगर, यहां तो सबकुछ उल्टा ही हो रहा है। चांपा रोड, लिंक रोड, स्टेशन रोड, कचहरी चौक तथा केरा रोड में संचालित कपड़ा दुकानों के संचालक ब्रांडेड उत्पादों के नाम पर ग्राहकों को ठगने से गुरेज नहीं कर रहे हैं।
टैग लगाकर खपा रहे नकली माल
शहर के कई प्रमुख व्यापारिक प्रतिष्ठानों में इन दिनों ब्रांडेड कंपनियों की पैकिंग और टैग लगाकर नकली उत्पादों को खपाया जा रहा है। लिहाजा, लोग धड़ल्ले से नकली उत्पादों की खरीददारी कर रहे हैं, लेकिन हकीकत तब सामने आती है, जब डेढ़ हजार में खरीदी गई किलर ब्रांड की जींस एक ही धुलाई में रंग छोड़ देती है या फिर जॉन प्लेयर्स की लेनिन की शर्ट एक ही धुलाई में रेशे छोड़ देती है। ठगी का शिकार हो रहे ग्राहक बड़ी तादाद में उपभोक्ता न्यायालय भी पहुंच रहे हैं। इसके बावजूद, प्रमुख व्यापारिक प्रतिष्ठानों के संचालक अपना जालसाजी का कारोबार जारी रखे हुए हैं।
ऑफर के साथ दे रहे कूपन भी
वैसे तो लॉटरी या चिटफंड अवैधानिक है। इस संबंध में भारत सरकार ने विशेष दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं। कानून में उल्लेखित प्रावधानों के मुताबिक, किसी तरह की खरीदी-बिक्री पर लॉटरी या कूपन का झांसा देना कानूनन जुर्म है, लेकिन जिला मुख्यालय जांजगीर के प्रमुख व्यापारिक प्रतिष्ठानों में ऑफर के साथ कूपन भी दिया जा रहा है, जिसमें चारपहिया, दोपहिया वाहन से लेकर कई तरह के इनाम रखे गए हैं। ग्राहक दोहरे लाभ के चक्कर में ऐसे प्रतिष्ठान संचालकों के झांसे में आसानी से आ रहे हैं। वहीं पुलिस और प्रशासन भी कार्यवाही करने के बजाय ऐसे व्यवसायियों को खुली छूट दे रहा है, जिसके कारण व्यवसायी खुलकर मनमानी कर रहे हैं।