कोरबा। कटघोरा वन मंडल में हाथियों के दहशत से ग्रामीण अभी उबर नहीं पाए हैं कि भालू का आतंक शुरू हो गया है। भालू के हमले में एक अधेड़ महिला की मौत हो गई। वन विभाग ने मृतका के परिजनों को तत्कालिक तौर पर 25 हजार रुपए की सहायता राशि उपलब्ध करा दी है। भालू के हमले की यह घटना केंदई रेंज के कोरबी सर्किल अंतर्गत ग्राम पंचायत रोदे के आश्रित गांव फुलसर में रविवार को घटित हुई। बताया गया कि यहां की निवासी फुलकुंवर पति मंगल सिंह जाति गोंड उम्र 54 वर्ष कोरबी में साप्ताहिक बाजार से सब्जी-भाजी खरीद कर अपने भाई के घर ग्राम हरदेवा जा रही थी तभी ग्राम फुलसर के पास स्थित घोघरा नाला पर शाम लगभग 5 बजे के दरमियान उसका एक आदमखोर भालू से मुठभेड़ हो गया। भालू ने अचानक हमला कर दिया। जिससे उसके सिर, आंख व अन्य अंग क्षतिग्रस्त हो गया।
साप्ताहिक बाजार कर अपने घर लौट रहे राहगीरों ने घटना की जानकारी उसके परिजनों को दी तब परिजन उसे 112 वाहन की मदद से अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने देखते हुए मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने घटना की जानकारी स्थानीय पुलिस चौकी एवं परिक्षेत्र सहायक कोरबी महेंद्र कुमार साहू को अवगत कराया। जिस पर उसने केंदई रेंजर को सूचित किया। केंदइ रेंजर द्वारा डीएफओ शमा फारूखी को बताए जाने पर उन्होंने घटना की पूरी जानकारी ली और मृतका के परिजनों को वन्य प्राणी के हमले में मौत पर दी जाने वाली तत्कालिक सहायता राशि देने का आदेश दिया। डीएफओ के आदेश पर रेंजर ने 25 हजार रुपए की ततकालिक सहायता राशि परिजनों को उपलब्ध करा दी है। इससे पहले भी ग्राम फुलसर में वन्य प्राणी के हमले की ऐसी ही घटना घटित हुई थी जिसमें एक आदमखोर भालू ने ग्राम फुलसर की दो ग्रामीणों को मौत के घाट उतार दिया था।
इस बीच कटघोरा वनमंडल के पसान रेंज में सक्रिय 45 हाथियों का दल आज तीन झुंडों में विभक्त हो गया। प्रत्येक झुंड में लगभग 15-15 हाथी हैं जो रेंज के पनगंवा, कुम्हारदर्री तथा तेंदूटिकरा में पहुंचकर 11 किसानों की फसल रौंद दिया है। हाथियों द्वारा फसल रौंदे जाने से संबंधित किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। जानकारी होने पर वन विभाग का अमला आज मौके पर पहुंचा और हाथियों द्वारा तीनों गांव में किये गए फसल नुकसान का सर्वे करने के साथ ही रिपोर्ट तैयार की जिसे वन मंडलाधिकारी के समक्ष पेश किया जाएगा। जहां से आदेश होने पर पीडि़तों को मुआवजा उपलब्ध कराया जाएगा।