जांजगीर-चाम्पा। महागौरी की पूजा के साथ ही क्षेत्र में आज नवरात्र का समापन हो गया। चैत्र नवरात्रि में इस वर्ष देवी मंदिरों में सन्नाटा पसरा रहा। यहां लॉकडाउन के चलते प्रशासन के निर्देश पर चंद्रपुर, चाम्पा, खोखरा, हरदी सहित अन्य देवी मंदिरों के प्रवेशद्वार में ताला लटकता रहा। इस दौरान श्रद्घालुओं ने अष्टमी का व्रत रखकर घरों में सुबह व शाम पूजा-अर्चना की।
देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या देख केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा एडवायजरी कर लोगों से घरों में रहने की अपील की। साथ ही सार्वजनिक जगहों में पर प्रतिबंध लगाया गया, ताकि भीड़ इकठ्ठा न हो सके। शासन के निर्देश पर भी जिले में आयोजित मेलों सहित साप्ताहिक बाजारों को भी स्थगित करने का निर्देश दिया, ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। यहां लगातार बढ़ रहे मरीजों की संख्या को देख शासन द्वारा सभी मंदिरों में भी लॉकडाउन का कड़ाई से पालन करने का निर्देश जारी किया गया। राज्य शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन द्वारा सभी मंदिरों के लिए गठित समितियों के पदाधिकारियों की बैठक ली गई और उन्हें भीड़ इकठ्ठा नहीं करने का निर्देश दिया। यहां प्रशासन के निर्देश पर सभी देवी मंदिरों में श्रद्घालुओं के लिए प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया गया। प्रशासन के निर्देश के बाद चंद्रपुर, चाम्पा, खोखरा, हरदी सहित अन्य सभी देवी मंदिरों के प्रवेश द्वार में ताला लटक रहा है। यहां श्रद्घालुओं के अभाव में मंदिर परिसर में सन्नाटा पसरा है। आज अष्टमी पर भी देवी मंदिरों के बाहर ताला लटकता रहा। यहां लॉकडाउन के चलते श्रद्घालु घरों से बाहर नहीं निकले और घरों पर रहकर श्रद्घालुओं ने व्रत रखकर पूजा अर्चना की। केवल पुजारी और बैगा लोगों ने ही देवी की पूजा-अर्चना की।