लखनऊ /मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव आज भाजपा में शामिल हो गई हैं। अपर्णा ने दिल्ली में भाजपा दफ्तर पहुंचकर भाजपा की सदस्यता ली है। वहां स्वतंत्रदेव सिंह और केशव प्रसाद मौर्य भी मौजूद हैं। अपर्णा मुलायम सिंह यादव के छोटे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं।
अपर्णा ने भाजपा की सदस्यता लेने के बाद पीएम मोदी और सीएम योगी का आभार जताया। कहा कि मैं राष्ट्र की आराधना करने निकली हूं। मुझे आपका सहयोग बहुत जरूरी है। स्वच्छ भारत मिशन, महिलाओं के स्वावलंबन ओर पार्टी की अन्य योजनाओं से बहुत प्रभावित रही हूं। जो भी कर सकूंगी, पूरी क्षमता से करूंगी।
अपर्णा को पार्टी की सदस्यता दिलाते हुए स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा कि सपा सरकार में बेटियां सुरक्षित नहीं है। उनके आने से पार्टी का कद बढ़ेगा।
केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में देश-प्रदेश का विकास हो रहा है। अखिलेश यादव सांसद के रुप में भी असफल रहे हैं। मुख्यमंत्री के रुप में भी असफल रहे हैं। बार-बार कहते थे कि हर योजना हमने शुरू की है।

अपर्णा यादव की जॉयनिंग को लेकर तमाम कयास लगाए जा रहें थे। तीन दिन पहले भी उनकी लखनऊ में भाजपा में जाने की खबर सुर्खियां बनी, लेकिन अपर्णा ने भाजपा का परचम नहीं थामा। तब अपर्णा के करीबियों ने दावा किया कि अब अपर्णा भाजपा में शामिल नहीं होंगी। परिवार में सब-कुछ ठीक है। शिवपाल ने भी अपर्णा को परिवार की पार्टी में रहने की सलाह दी थी। साथ ही अखिलेश ने भी कहा था कि परिवार में सब ठीक है। फिर अचानक ऐसा क्या हुआ कि अपर्णा पार्टी भाजपा में शामिल हो रहीं हैं?

अखिलेश का परिवार के किसी भी सदस्य को टिकट देने से इंकार

अपर्णा यादव के भाजपा में शामिल होने के पीछे अखिलेश यादव का वो फैसला है, जिसने परिवार में भूचाल ला दिया है। सूत्रों का दावा है कि अखिलेश यादव ने फैसला किया है कि इस बार किसी भी कीमत पर परिवार के किसी भी सदस्य को टिकट नही देंगे। अखिलेश के इस फैसले के बाद ही अपर्णा ने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया।

मुलायम ने भी अखिलेश से मांगी थी अपर्णा के लिए टिकट

मुलायम परिवार के सूत्रों की माने तो अपर्णा हर कीमत पर इस बार विधानसभा का चुनाव लड़ना चाहती है। इसको लेकर अपर्णा लगातार मुलायम सिंह यादव पर दबाव डाल रही थी। सूत्रों का तो यह भी दावा है कि मुलायम सिंह यादव ने अपर्णा के टिकट के लिए अखिलेश से भी बात की थी,लेकिन कोई नतीजा नही निकला।
जब अपर्णा की भाजपा ज्वाइन करने की बात शुरु हुई तो फिर परिवार में कलह मच गई और अपर्णा ने अपना फैसला टाल दिया। कहा गया कि अब अपर्णा परिवार और पार्टी में ही रहेंगी, लेकिन आज अपर्णा आखिरकार भाजपा में शामिल हो रही है।

शिवपाल यादव ने भी अपर्णा के लिए अखिलेश से की मुलाकात
भाजपा सूत्रों का दावा है कि अपर्णा से पार्टी में शामिल होने के लिए बातचीत लगातार चल रही थी। इसे बेहद गोपनीय रखा गया। अपर्णा लगातार सीएम योगी के संपर्क में थी। मंगलवार की शाम करीब 3 बजे शिवपाल यादव अखिलेश से मिलने समाजवादी पार्टी के दफ्तर पहुंचे। उस दौरान उनकी कार में अपर्णा के छोटे भाई अमन विष्ट भी मौजूद थे। सूत्रों की माने तो शिवपाल यादव ने परिवार के सदस्यों के टिकट को लेकर भी बात की। खबर है कि उस दौरान अखिलेश ने परिवार के किसी भी सदस्य को भी टिकट देने से साफ इंकार कर दिया। इसके बाद अपर्णा ने सिग्नल ग्रीन कर दिया।

अपर्णा ने सीएम योगी से की भी की बात

खबर है कि अपर्णा यादव ने भाजपा में शामिल होने के लिए सीएम योगी से भी बात की थी। सीएम योगी ने भी पार्टी में इसको लेकर डिस्कस किया और फैसला हुआ कि सीएम की मौजूदगी में अपर्णा भाजपा में शामिल होंगी। अपर्णा की जॉयनिंग के दौरान सीएम योगी और डिप्टी सीएम केशव मौर्य भी मौजूद रहेंगे। हालांकि कुछ दिनों पहले ही अखिलेश यादव से पूछा गया था कि अपर्णा यादव के बीजेपी में शामिल होने की चर्चा है। इस पर अखिलेश यादव ने कहा था कि ये परिवार का मामला है और परिवार में सब कुछ ठीक है।

अपर्णा यादव को मिल सकती है कैंट विधानसभा की सीट
अपर्णा यादव भाजपा से कैंट सीट की दावेदारी भी कर रही है। अपर्णा यादव ने 2017 का विधानसभा चुनाव लखनऊ कैंट सीट से समाजवादी पार्टी के टिकट पर लड़ा था।उन्हें बीजेपी की रीता बहुगुणा जोशी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। उनके लिए अखिलेश यादव ने प्रचार भी किया था। जोशी के सांसद चुने जाने के बाद हुए उप चुनाव में भी बीजेपी ने यह सीट जीत ली थी। पार्टी में शामिल होने के बाद अपर्णा को कैंट सीट मिल सकती है।

Previous articleबिलासपुर: पत्नी के सामने युवक को मार डाला, देर रात घर में कुल्हाड़ी लेकर घुसा था पड़ोसी; जमीन को लेकर चल रहा था विवाद
Next article5G से फ्लाइट को खतरा! एयर इंडिया ने कैंसिल की कई उड़ानें