कोरबा। करतला विकासखंड सहित बड़े हिस्से में बारिश नहीं होने से किसान चिंतित होने लगे हैं। खेतों में दरारें देखी जा रही है और धान के पौधे विकसित होने से बच रहे है। ऐसे में खेती के परिणामों को लेकर किसान सशंकित है। उन्हें लगता है कि अगले कुछ दिन बारिश नहीं होती है तो बड़ा नुकसान होगा और आगे गंभीर समस्याएं सामने होंगी।
बारिश का क्रम पिछले कुछ दिनों से टूट सा गया है। अषाढ़ में उम्मीद से कहीं ज्यादा बारिश हुई। इससे नदी, नालों और कुओं में पानी भरपूर हो गया। सोचा जा रहा था कि आगे भी बारिश का सिलसिला कुछ ऐसा ही रहेगा और इससे कृषि कार्य को फायदा होगा। सावन के महीने में बारिश के गुम होने से किसानों को चिंता है। सबसे ज्यादा दिक्कत धान उत्पादक किसानों को हो रही है। धान उत्पादक किसानों का कहना है कि कभी सावन माह के महीने में कोई ऐसा नहीं नहीं होता था, जिस दिन बारिश की फुव्हारे खेत-खलियानों में न पड़ती हो। इसके साथ-साथ किसान बारिश नहीं होने से चिंतित हो रहे है। किसानों का कहना है कि अगर ऐसी ही स्थिति बनी रही तो आने वाले दिन उनके लिए भयंकर होंगे, क्योंकि एक तरफ महंगाई की मार उनके ऊपर पड़ रही है, दूसरी तरफ बारिश नहीं होने के कारण उनकी फसलों को नुकसान हो रहा है। बारिश नहीं होने के कारण सबसे ज्यादा किसान इस समय चिंतित है। इस मामले में सरगबुंदिया गांव के दयाराम का कहना था कि इस बार बारिश जल्दी शुरू हो गई थी और खेती करवाने के समय में बारिश ने धोखा दे दिया पिछले दिनों मैं धान की रोपाई अपने खेत में मजदूरों के माध्यम से लगवाई, लेकिन बारिश नहीं होने के कारण अब उसको उसे नष्ट करने पर मजबूर होना पड़ रहा है। उसका कहना था कि बारिश नहीं होने के कारण तो दिक्कत हो रही है