रायपुर। रायपुर-बिलासपुर मार्ग निर्माण में देरी को लेकर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भड़क उठे हैं। यहां अभी प्रोजेक्ट पूरा होने के पहले ही जगह जगह पर सड़कें फटने लगी है। कंक्रीट सड़क पर 20-20 मीटर से भी लंबी दरारें बन गई हैं। वहीं कई जगह सिंगल लेन से ही गाड़ियों का आना जाना हो रहा है । वहीं धनेली के पास ओवर ब्रिज का निर्माण भी अब तक अधूरा पड़ा हुआ है। सभी ओवर ब्रिज के जॉइंट पर गहरे गड्ढे हो गए हैं। केंद्रीय मंत्री ने ठेकेदार पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने नेशनल हाईवे की समीक्षा की है। रायपुर और बिलासपुर फोरलेन सड़क के काम में पहले ही देरी हो चुकी है। फोरलेन सड़क के लिए दिसंबर 2018 तक मियाद तय होने के बाद काम में तेजी गई थी। रायपुर से सिमगा तक 48.58 किमी 594 करोड़, सिमगा से सारागांव तक 42.44 किमी 639 करोड़ और सारागांव से बिलासपुर तक की 35.49 किमी की सड़क 535 करोड़ की लागत से बन रही है।

फोरलेन सड़क का काम शुरू होने के बाद से ही निर्माण में देरी की कई वजह बताई गई। इनमें राजस्व मामलों का निपटारा, सड़क निर्माण में आ रहे पेड़ों की कटाई के कारण भी निर्माण में देरी हुई। सड़क निर्माण में देरी की वजह से मामला हाईकोर्ट भी पहुंचा जहां हाईकोर्ट के संज्ञान लेने के बाद फोरलेन सड़क को पूरा करने का समय दिसंबर 2018 दिया गया था।