महाराष्ट्र। पुणे में शिवसेना के शिंदे गुट के विधायक उदय सामंत की गाड़ी पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया. इस मामले में विधायक ने कहा कि पुलिस जांच करेगी कि हमलावर उनका या मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे का पीछा तो नहीं कर रहे थे. मंगलवार को उस जगह से गुजरते समय कुछ लोगों ने सामंत के वाहन पर हमला किया था, जहां आदित्य ठाकरे ने मंगलवार की शाम को एक जनसभा आयोजित की थी. शिवसेना कार्यकर्ताओं ने उदय सामंत के वाहन देखते ही उनके खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी. सामंत ने आरोप लगाया कि कुछ कार्यकर्ताओं ने कार का शीशा भी तोड़ दिया. घटना की निंदा करते हुए उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में इस तरह की राजनीति नहीं होती है. उन्होंने कहा कि यह एक निंदनीय घटना है. महाराष्ट्र में राजनीति इस तरह नहीं होती है. उनके (हमलावरों) के पास बेसबॉल स्टिक और पत्थर थे. सीएम का काफिला मुझसे आगे जा रहा था. पुलिस जांच करेगी कि वे मेरा पीछा कर रहे थे या सीएम (एकनाथ शिंदे). इसके साथ ही उदय सामंत ने कहा कि वो इस तरह की घटनाओं से डरेंगे नहीं. सामंत ने कहा कि मैं इस तरह की घटनाओं से नहीं डरूंगा. मैंने सीएम एकनाथ शिंदे से बात की है और उन्हें घटना के बारे में बताया है. पुलिस पूरे मामले की जांच करेगी. वहीं इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने इसे कायरतापूर्ण बताया और कहा कि शांति और कानून व्यवस्था को बाधित करने की कोशिश करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. शिंदे ने कहा कि यह कायरता का कार्य है. पथराव और भागने में कोई बहादुरी नहीं है. कानून-व्यवस्था बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है. अगर कोई कानून-व्यवस्था को बाधित करने की कोशिश करता है, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. सभी को शांति बनाए रखनी चाहिए, लेकिन फिर भी अगर कोई शांति भंग करता है, तो पुलिस खुद कार्रवाई करेगी. उन्होंने आगे कहा कि सभी को राज्य में सांप्रदायिक और सामाजिक सद्भाव बनाए रखना चाहिए. अगर कोई ऐसा नहीं कर रहा है तो पुलिस उसके खिलाफ कार्रवाई करेगी.