जांजगीर-चाम्पा। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाए गए साप्ताहिक लाकडाउन का असर जिला मुख्यालय सहित नगरीय निकायों में दिखा। आज सुबह से ही शहरों की अनिवार्य सेवाओं को छोडक़र सभी दुकानें बंद रही है। पूर्ण लाकडाउन के पहले दिन लगभग सभी दुकानें बंद रही। दुकानों के बंद रहने के चलते दोपहर 12 से शाम 5 बजे तक सडक़ों पर सन्नााटा पसरा रहा। हालांकि शाम ढलते ही सडक़ों पर चहल पहल दिखने लगी। मार्च के बाद अप्रैल माह के प्रथम सप्ताह से ही जिले में लगातार कोरोना संक्रमण के आंकड़े बढऩे लगे। लगातार बढ़ रहे संक्रमण की रोकथाम के लिए जिले के सभी नगरीय निकायों व ग्रामीण क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर 13 अप्रैल से 23 अप्रैल तक संपूर्ण गतिविधियों पर रोक लगाते हुए लाकडाउन लगाए जाने का आदेश जारी किया। कलेक्टर के आदेश के बाद जिले में संपूर्ण गतिविधियां रूक गई, बाजवूद इसके लगातार संक्रमण विस्फोट जारी रहा। संक्रमण की रोकथाम के लिए कलेक्टर द्वारा फिर से संशोधित आदेश जारी कर लाकडाउन की अवधि को बढ़ाते हुए 6 मई तक किया गया। इसी तरह फिर से इसकी अवधि बढ़ाते हुए 15 मई तक किया गया, मगर स्थिति जस की तस रही। हालांकि एक बार फिर संक्रमण की रोकथाम के लिए इसकी अवधि को बढ़ाते हुए 31 मई तक कीे गई। इस लंबी अवधि के लाकडाउन से आमजनों को परेशानी का सामना करना पड़ा। जिले में अब भी रोजाना 50 से अधिक संक्रमित मरीजों की पहचान कर उनका उपचार किया जा रहा है। संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर कलेक्टर जितेंद्र शुक्ला ने सभी नगरीय निकायों में आगामी आदेश तक प्रत्येक रविवार को साप्ताहिक लाकडाउन लगाए जाने का आदेश जारी किया है। कलेक्टर के आदेश पर आज जिला मुख्यालय सहित चांपा, अकलतरा, सक्ती सहित अन्य नगरीय निकायों में सभी दुकानें बंद रही। संपूर्ण लाकडाउन के दौरान दुकानें बंद होने के चलते सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक सडक़ों पर सन्नााटा पसरा रहा। हालांकि शाम ढलते ही लोग घरों से बाहर निकले और सडक़ों पर लोगों की चहल-पहल दिखी।