कोरबा। थोड़ी भी देर होती तो स्थिति कुछ और होती। लोगों की नजर पडऩे और उनके चिल्लाने पर एक कुत्ते ने हरकत में आकर बालिका की जान बचा ली, जिसे लेकर सुअर भाग रहा था।
कोतवाली क्षेत्र के सीतामणी में एक व्यक्ति द्वारा पाले गए सुअर के कारण डेढ़ साल की बालिका की जान खतरे में पड़ गई। बताया कि बुधवार की रात 10 बजे बालिका अपने घर के बाहर मौजूद थी। पास में विचरण कर रहे सुअर ने एकाएक बालिका को अपने कब्जे में लिया और घसीटना शुरू कर दिया। बालिका के चिल्लाने पर लोग सक्ते में आए। उन्होंने शोर मचाया तो पड़ोस के एक कुत्ते ने वफादारी दिखाते हुए सुअर का पीछा किया और उसे बालिका को छोडऩे के लिए मजबूर कर दिया। पासा उलटा पडऩे पर सुअर यहां से भाग निकला। यह दृश्य सामने आने पर लोग मौके पर पहुंचे और बालिका को अपने कब्जे में लिया। लोगों के मुताबिक एक पखवाड़ा पहले इसी सुअर ने सीतामणी इमलीडुग्गू क्षेत्र की कुछ महिलाओं पर उस वक्त हमला किया था, जब वे शौच के लिए गई हुई थी। लोग चाहते हैं कि जिस सुअर से समस्या हो रही है उसके पालक पर अपेक्षित कार्रवाई होना चाहिए। तर्क दिया जा रहा है कि सड़क पर जाम लगाने वाले मवेशियों पर जब नगर निगम कार्रवाई कर सकता है तो अन्य मामलों में शिथिलता क्यों।