ठेकेदार की भूमिका पर बिगड़ा सिविल विभाग

कोरबा। साउथ ईस्टर्न कोलफील्डस लिमिटेड के कोरबा एरिया की सुभाष ब्लाक और अन्य कालोनियों में साफ सफाई व्यवस्था बदहाल है। आवासों के पीछे गंदगी का कब्जा है। सेप्टिक चेम्बर खुले छोड़ दिए गए हैं। लगातार मिल रही शिकायतों को लेकर सिविल विभाग ने ठेकेदार को खरीखोटी सुनायी। चार-पांच दिन में स्थिति ठीक करने के लिए कहा गया है।
कोरबा के सुभाष ब्लाक, ड्रिलिंग कैंप और कई कालोनियों में सफाई व्यवस्था बदतर हो चुकी है। समस्या अभी की नहीं है। अरसे से हाल ऐसा ही बना हुआ है। गंदगी के माहौल में रहते हुए कर्मचारी और उनके परिजन कई समस्याओं से जूझ रहे है। दिक्कत यह है कि आवासों के पीछे के हिस्से जहां गंदे पानी की निकासी होती है, उस क्षेत्र को अनावश्यक बंद कर दिया गया है। ऐसे में साफ सफाई बाधित हो गई है। इसी हिस्से में सेप्टिक चेम्बर मौजूद हैं, जहां आवासों से निकलने वाला अपशिष्ट जमा होता है। ऐसे में इसके खतरनाक स्तर को आसानी से समझा जा सकता है। इसके बावजूद सभी सेप्टिक चेम्बर को कव्हर करने के बजाय खुला छोड़ दिया गया है। इसके चलते हर समय दुर्गंध की स्थिति बने रहने से लोग परेशान हो रहे हैं। कोरोना के खतरे के बीच लोगों को महामारी की जद में आने की चिंता सता रही है। कई तरह से इस बारे में शिकायतें मिलने पर सिविल विभाग ने यहां का रूख किया। एसओ सिविल दीक्षित ने बताया कि कुछ कर्मियों को समस्या जानने के काम में लगा दिया गया है। एक दो दिन में जानकारी सामने आने के साथ इस ओर आगे का काम कराया जाएगा। बताया गया कि इन क्षेत्रों में साफ सफाई और इससे जुड़े कामों की जिम्मेदारी ठेकेदार अग्रवाल को दी गई है। उसकी बेहतर ढंग से खबर ली गई। एसओ का कहना है कि अगर उसकी वजह से जनस्वास्थ्य का खतरा पैदा होता है तो निश्चित रूप से प्रावधान के तहत जरूरी कार्रवाई भी की जाएगी।