देश में किसी भी मोबाइल पर लैंडलाइन से कॉल करते वक्त 15 जनवरी से आपको उस मोबाइल नंबर के आगे 0 लगाना होगा. कम्युनिकेशन मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि फिक्स्ड टू फिक्स्ड डायलिंग प्लान, मोबाइल टू फिक्स्ड और मोबाइल को मोबाइल कॉल्स पर किसी तरह का कोई परिवर्तन नहीं किया गया है. दूरसंचार विभाग ने भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (TRAI) के एक प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. ट्राई ने इस तरह के कॉल के लिए 29 मई 2020 को नंबर से पहले जीरो लगाने की सिफारिश की थी. इससे टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर कंपनियों को अधिक नंबर बनाने की सुविधा मिल सकेगी.

लगाना होगा जीरो
20 नवंबर को दूरसंचार विभाग ने एक सर्कुलर के जरिए बताया कि लैंडलाइन से मोबाइल पर नंबर डायल करने के तरीके में बदलाव की ट्राई की सिफारिशों को मान लिया गया है. इस सर्कुलर के अनुसार नियम को लागू करने के बाद लैंडलाइन से मोबाइल पर कॉल करने के लिए नंबर से पहले जीरो डायल करना होगा. दूरसंचार विभाग ने कहा कि दूरसंचार कंपनियों को लैंडलाइन के सभी ग्राहकों को जीरो डायल करने की सुविधा देनी होगी. यह सर्विस अभी अपने क्षेत्र से बाहर के कॉल करने के लिए अवेलेबल है. विभाग की तरफ से कहा गया कि फिक्स्ड लाइन स्विच में उपयुक्त एलान किया जाए जिससे फिक्स्ड लाइन सब्सक्राइबर्स को सभी फिक्स्ड से मोबाइल कॉल के लिए आगे 0 डायल करने की जरूरत के बारे में बताया जाए.

टेलीकॉम कंपनियों को मिलेगी मदद
नंबर डायल करने के इस तरीके में आ रहे चेंज से टेलीकॉम कंपनियों को मोबाइल सर्विस के लिए 254.4 करोड़ अतिरिक्त नंबर बनाने करने की सुविधा मिलेगी. यह आने वाले समय की जरूरतों को पूरा करने में मदद करेगी.