भारतीय टीम ने बेहद ही घटिया प्रदर्शन किया है। पहले डे नाईट टेस्ट में भारतीय टीम दूसरी पारी में सिर्फ 36 रन पर सिमट गयी। इससे पहले भारतीय इतिहास में टीम इंडिया का इतना शर्मनाक प्रदर्शन कभी नहीं रहा। टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने कितनी घटिया बल्लेबाजी की, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकताहै कि कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाया। भारतीय टीम की ओर से मयंक अग्रवाल का सर्वाधिक स्कोर रहा, जिन्होंने केवल 9 रन बनाये। भारतीय टीम का 36 रन टेस्ट की एक पारी में अब तक का सबसे कम स्कोर है. इससे पहले भारतीय टीम ने 46 साल पहले सबसे कम स्कोर 42 रन बनाया था. यह इंग्लैंड के खिलाफ लॉ‌र्ड्स में 1974 में बनाया था.

ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड में खेले जा रहे डे-नाइट टेस्ट के तीसरे दिन भारतीय टीम 90 मिनट में सिमट गई. टीम इंडिया दूसरी पारी में 9 विकेट गंवाकर 36 रन ही बना सकी. आखिर में मोहम्मद शमी चोटिल होकर रिटायर हुए. ऑस्ट्रेलिया के सामने मैच जीतने के लिए 90 रन का टारगेट है. मेजबान टीम के जोश हेजलवुड ने 5 और पैट कमिंस ने 4 विकेट लिए.जोश हेजलवुड और पैट कमिंस भारतीय बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे. हेजलवुड ने 5 और कमिंस ने 4 विकेट झटके. टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम स्कोर पर ऑलआउट होने की बात करें तो यह रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के नाम है. 1955 में न्यूजीलैंड की टीम इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में 26 रनों पर ऑलआउट हो गई थी. इसके बाद साउथ अफ्रीका का नंबर आता है जो टेस्ट क्रिकेट में 30, 35, 36 रनों का ऑलआउट हो चुकी है.

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों का कहर जारी है. जोश हेजलवुड ने ऋद्धिमान साहा (4) और रविचंद्रन अश्विन (0) को आउट कर भारत के 26 रन पर 8 विकेट गिरा दिए। इससे पहले भारत ने ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में 191 रन पर आउट करके दूसरे दिन शुक्रवार को 53 रन की बढ़त ले ली थी. ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए मार्नस लाबुशेन (47) और टिम पेन (नाबाद 73) को छोड़कर कोई बल्लेबाज टिक नहीं सका. टीम इंडिया के लिए रविचंद्रन अश्विन ने पहली पारी में 4 कंगारू बल्लेबाजों को पवेलियन लौटा दिया. इसके अलावा उमेश यादव ने 3 और जसप्रीत बुमराह ने 2 विकेट झटके. एडिलेड टेस्ट में अश्विन ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के लिए बड़ा खतरा साबित हो रहे हैं.