नई दिल्ली: अमेरिका के एयरपोर्ट्स पर आज से 5G इंटरनेट सेवा लागू हो रही है. इसका सीधा असर भारतीय उड़ानों पर भी पड़ रहा है. आपको बता दें कि एयर इंडिया ने अमेरिका जाने वाली उड़ानों को रद्द कर दिया है. एयर इंडिया ने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है.

शेड्यूल में आगे भी हो सकते हैं बदलाव
आपको बता दें कि फिलहाल भारत से अमेरिका के बीच सिर्फ एयर इंडिया के ही विमान उड़ान भर रहे हैं. लेकिन 5G तकनीक की वजह से इसमें भी बदलाव आ जाएगा. एयर इंडिया ने एक दूसरे ट्वीट में बताया कि 19 जनवरी को दिल्ली से वाशिंगटन के लिए उड़ान भरने वाली फ्लाइट AI103 अपने निर्धारित समय से ही रवाना होगी. हालांकि अन्य कुछ उड़ानों पर असर रहेगा.

‘एयरपोर्ट से दूर ही रहे 5G’
एयरलाइन कंपनियों का कहना है कि अमेरिका में 5G टेक्नोलोजी लागू होने की वजह से विमान के इंजन और ब्रेकिंग सिस्टम को लैंडिंग मोड में जाने से रुकावट पैदा हो सकती है. ऐसे में विमानों के लिए लैंड करने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. इन कंपनियों का कहना है कि स्थानीय सरकार पूरे देश में 5G लगाए लेकिन इसे एयरपोर्ट की रेंज से दूर रखा जाए.

लेटर लिख जताई चिंता
इसके बारे में एविएशन रेगुलेटर FAA को लिखकर चिंता भी जताई गई है. US आधारित एयरलाइंस ग्रुप ने एक लेटर लिखकर कहा है कि 5G की वजह से भयंकर विमानन संकट आ सकता है. इस ग्रुप में United Airlines, American Airlines, Delta Airlines और FedEx शामिल हैं.

कई यात्री होंगे प्रभावित
बता दें कि एयर इंडिया के अलावा यूनाइटेड एयरलाइंस और अमेरिकन एयरलाइंस भी अमेरिका और भारत के बीच उड़ान भरती है. FAA ने कहा कि उसने कुछ 5G वाले इलाके के भीतर ट्रॉसपॉन्डर को काम करने की छूट दी है. 5G के C-बैंड से प्रभावित होने वाले 88 एयरपोर्ट में से 48 के पास नई तकनीक को हरी झंडी दी गई है. एयरलाइंस को चिंता है कि इन एयरपोर्ट में अनसर्टिफाइड इक्विपमेंट से हजारों उड़ाने ठप हो सकती हैं. यूनाइडेट एयरलाइंस ने कहा कि मौजूदा 5G वायरलेस के कारण सालभर में 15,000 उड़ानें और 12.5 लाख यात्री प्रभावित होंगे.

Previous articleमुलायम की छोटी बहू अपर्णा भाजपा में शामिल हुईं: पीएम मोदी-सीएम योगी से प्रभावित हूं, कैंट से हो सकती हैं उम्मीदवार
Next articleमनमानी:स्टेशन के सामने 5 से 10 मिनट वाहन खड़ा किए तो पार्किंग ठेकेदार के लोग कर रहे हैं आरपीएफ की तरह कार्रवाई