हरिद्वार : हरिद्वार का कुंभ मेला 48 दिन नहीं बल्कि 60 दिन का होगा. 27-28 फरवरी तक कुंभ मेले (Kumbh Mela) की अधिसूचना जारी हो जायेगी. श्रद्धालु गंगा स्नान तभी कर पायेंगे जब उनकी कोविड-19 रिपोर्ट निगेटिव होगी. प्रदेश के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने शुक्रवार को यहां मेला नियंत्रण भवन में आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में यह जानकारी दी.
पुलिस महानिदेशक ने कहा कि कुंभ मेले से पूर्व चार पर्व स्नान मकर संक्रांति (14 जनवरी), मौनी अमावस्या (11 फरवरी), वसंत पंचमी (16 फरवरी) और माघ पूर्णिमा (27 फरवरी) पड़ रहे हैं. इन चारों स्नान को भी कोविड-19 के नियमों के अनुसार संपन्न कराया जायेगा. इसके लिए जल्द ही एसओपी जारी किया जायेगा. उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर कुछ लोग कह रहे हैं कि कुंभ मेला 48 दिनों का होगा, लेकिन वह स्पष्ट करना चाहते हैं कि कुंभ मेला 48 नहीं बल्कि 60 दिन का होगा.
अशोक कुमार ने कहा कि स्नान पर्व और कुंभ के शाही स्नानों को लेकर अलग-अलग ट्रैफिक एवं पार्किंग व्यवस्था लागू की जायेगी, ताकि शहर में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई बाधित न हो. ​ऋषिकेश में आयोजित कुंभ 2021 समीक्षा, मार्गदर्शन एवं जनसंवाद कार्यक्रम में पुलिस महानिदेशक ने कहा कि कुंभ मेले में कोई भी स्नान प्रतिबंधित नहीं है, लेकिन इस दौरान कोविड-19 के नियमों का पूरा पालन करना होगा.
हिंदू धर्म में कुंभ स्नान का खास महत्व, समस्त पापों से मुक्ति, हरिद्वार कुंभ में क्या है खास?
उन्होंने कहा कि फरवरी माह के अंतिम हफ्ते तक सभी को स्नान के नियमों की जानकारी हो जायेगी. दो-तीन दिनों के भीतर यह भी तय हो जायेगा कि कुंभ का स्वरूप क्या होगा. मेला में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो प्रशासन इसकी तैयारी में जुट गयी है.
श्रद्धालु घर बैठे पा सकेंगे पूरी जानकारी
उत्तराखंड पुलिस ने कुंभ मेले के प्रचार प्रसार के साथ ही मेला में शामिल होने वाले लोगों की सुविधा के लिए फेसबुक पेज तैयार किया है. इस पेज पर कुंभ से जुड़ी सामग्री श्रद्धालुओं को उपलब्ध कराई जायेगी. कुंभ के दौरान हरिद्वार के ट्रैफिक प्लान और पार्किंग की जानकारी भी श्रद्धालुओं को घर बैठे मिल सकेगी.