लखनऊ। पहली ही बारिश में 844 करोड़ के बजट वाले रामपथ के जगह-जगह धंस जाने पर राज्य सरकार ने सख्त रुख अपनाया है। रामपथ पर हुए गड्ढ़ों के कारण निर्माण कार्य पर उठ रहे सवालों पर लोक निर्माण विभाग और जल निगम (नगरीय) के दो अधिशासी अभियंता, दो सहायक अभियंता और दो अवर अभियंता को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही गुजरात की कार्यदायी संस्था मेसर्स भुगन इंफ्राकान प्राइवेट लिमिटेड को नोटिस भेजा गया है। निलंबित अभियंताओं में लोक निर्माण के अधिशासी अभियंता ध्रुव अग्रवाल, सहायक अभियंता अनुज देशवाल व अवर अभियंता प्रभात कुमार पांडेय के अलावा जल निगम के अधिशासी अभियंता आनंद कुमार दुबे, सहायक अभियंता राजेन्द्र कुमार यादव, अवर अभियंता मो. शाहिद भी शामिल हैं। जल निगम के मुख्य अभियंता लखनऊ क्षेत्र को जांच अधिकारी नामित करते हुए 30 जुलाई तक रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया गया है।