🔹️दो अन्य का भी बिलासपुर में हो रहा इलाज

अकलतरा/ रविवार की सुबह पितर पक्ष के हवन कुंड में आग जलाने के लिए सैनिटाइजर का उपयोग करना परिवार के सदस्यों को महंगा पड़ गया। सैनिटाइजर से भड़की आग से जहां रविन्द्र शर्मा का 9 वर्षीय बालक आशुतोष शर्मा गंभीर रूप से झुलस गया वहीं उसे बचाने के चक्कर में रविंद्र शर्मा व प्रवीण शर्मा की मां मांडवी शर्मा भी गंभीर रूप से घायल हो गए।

तीनों लोगों को प्राथमिक इलाज के बाद बिलासपुर के निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया। मिली जानकारी के अनुसार तहसील कार्यालय मोड़ के पास निवासरत रविंद्र शर्मा ने अपने निवास में दादा के नाम से श्राद्ध का कार्यक्रम आयोजित किया था। श्राद्ध के हवन कुंड में आग नहीं जलने पर रविन्द्र शर्मा ने अपने घर में रखे हुए सैनिटाइजर के डिब्बे से कुछ बूंदे कुंड में डालकर हवन कुंड में आग जलाई। परिवार के लोगों का ध्यान हवन कुंड में चले जाने के बाद रविन्द्र शर्मा के 9 वर्षीय पुत्र आशुतोष शर्मा ने सेनेटाइजर का पूरा डब्बा लाकर हवन कुंड में डाल दिया।

आग की चपेट में आते ही सैनिटाइजर के डिब्बे में जोरदार ब्लास्ट हुआ। इससे आशुतोष शर्मा आग में बुरी तरह झुलस गया। बालक को बचाने के प्रयास में पिता रविंद्र शर्मा के हाथ एवं पैर भी झुलस गए। बालक की दादी मांडवी शर्मा ने भी बालक को बचाने का प्रयास किया तो आग की लपटें मांडवी शर्मा की आंख में पड़ी। तीनों को निजी एंबुलेंस से इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। स्थिति गंभीर होने पर डॉक्टर ने उन्हें सिम्स बिलासपुर रिफर कर दिया। परिवार के लोगों ने उन्हें बिलासपुर के निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया। परिजन ने बताया कि 9 वर्षीय बालक आशुतोष शर्मा आग से 90 प्रतिशत तक झुलस गया है। गंभीर स्थिति होने से उसे आईसीयू में भर्ती कराया गया है । बालक के पिता रविन्द्र शर्मा और दादी मांडवी शर्मा का इलाज जारी है।

Previous articleबिजली गिरने से हुआ हादसा:खेत में आलू लगाते समय गिरी गाज, एक ही परिवार के 3 लोगों की मौत, दो गंभीर
Next articleएनीकट में नहाते वक्त दूसरे दिन भी हादसा:एनीकट में बहा कबड्‌डी का स्टेट लेवल खिलाड़ी, देर शाम तक खोजबीन की, आज फिर जुटेगी रेस्क्यू टीम