कपिलदेव की अगुवाई वाली क्रिकेस सलाहकार समिति (CAC) की बैठक में शुक्रवार को यह फैसला हुआ। शास्त्री का कार्यकाल 2021 तक बने रहेंगे।

CAC की मीटिंग जारी है जहांम अन्य स्टाफ के दावेदारों के साक्षात्कार हो रहे हैं। कपिल की अगुवाई वाली सीएसी में अंशुमन गायकवाड और शांता रंगास्वामी शामिल है। चीफ कोच पद के लिए वर्तमान कोच रवि शास्त्री का दावा मजबूत माना जा रहा था। उनके अलावा इस पद की होड़ में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर और श्रीलंकाई कोच टॉम मूडी, न्यूजीलैंड और किंग्स इलेवन पंजाब के कोच माइक हेसन, भारत के 2007 की टी20 वर्ल्ड कप विजेता टीम के क्रिकेट मैनेजर लालचंद राजपूत, मुंबई इंडियंस के पूर्व चीफ कोच रॉबिन सिंह और अफगानिस्तान के पूर्व कोच फिल सिमंस भी शामिल थे।

चीफ कोच पद के लिए सबसे पहले रॉबिन सिंह CAC के सामने उपस्थित हुए। रॉबिन सिंह मुंबई इंडियंस के मुख्य कोच रह चुके हैं। रवि शास्त्री इस समय टीम इंडिया के साथ वेस्टइंडीज में है ।


बल्लेबाजी कोच के लिए विक्रम राठौर का दावा सबसे मजबूत माना जा रहा है। इसी प्रकार गेंदबाजी कोच के लिए वर्तमान कोच भरत अरूण सबसे सशक्त उम्मीदवार है। जोंटी रोड्स की वजह से फील्डिंग कोच आर श्रीधर की राह मुश्किल मानी जा रही है। टीम इंडिया के प्रशासनिक मैनेजर की भी नियुक्ति की जाएगी क्योंकि वेस्टइंडीज दौरे पर भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों के साथ अभद्र व्यवहार के चलते सुनील सुब्रमण्यम का हटना भी तय हो गया है।