टीम इंडिया के युवा खिलाड़ी पृथ्वी शॉ को बड़ा झटका लगा है, क्योंकि वो डोपिंग के दोषी पाए गए हैं और उनको कुछ महीनों के लिए सस्पेंड कर दिया गया है.

पृथ्वी शॉ के इस तरह से डोपिंग में फंसना उनके क्रिकेट करियर के लिए बड़ा झटका है क्योंकि पृथ्वी शॉ न केवल टीम इंडिया के उभरते युवा स्टार हैं, उन्हें जितने भी मौके अबतक टीम इंडिया से मिले हैं उसमें उन्होंने अपनी काबिलियत साबित की है.

डोपिंग में फंसे पृथ्वी

बीसीसीआई ने आज युवा क्रिकेटर पृथ्वी शॉ सहित तीन खिलाड़ियों को डोपिंग का दोषी पाया है, बीसीसीआई के मुताबिक पृथ्वी शॉ ने अनजाने में एक प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन कर लिया था जो आमतौर पर खांसी की दवाई सीरप में पाया जाता है.

बीसीसीआई ने आगे कहा कि पृथ्वी शॉ ने इंदौर में 22 फरवरी 2019 को सैय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी मैच के दौरान बीसीसीआई  के डोपिंग रोधी टेस्ट कार्यक्रम में दौरान यूरिन सैंपल दिया था, उनके नमूने में टर्ब्यूनल पदार्थ की मात्रा पाई गई है, ये पदार्थ वर्ल्ड डोपिंग रोधी एंजेंसी वाडा की बैन दवाओं की सूची में शामिल है.

16 जुलाई को पृथ्वी शॉ पर बीसीसीआई के डोपिंग रोधी नियम अनुच्छेद 2.1 के तहत डोपिंग रोधी नियम उल्लंघन कमीशन की ओरप लगाया गया, हालांकि इस मामले में पृथ्वी शॉ ने आरोप भी स्वीकार किया है लेकिन उन्होंने कहा है कि उनसे अनजाने में ये हुआ है. उन्हें उनके डॉक्टर ने एक दवा के सेवन के लिए कहा था जिसमें ये बैन पदार्थ शामिल था.

इतने महीने के लिए हुए सस्पेंड

इंजरी से उबर रहे पृथ्वी शॉ को 8 महीने के लिए सस्पेंड किया गया है, पृथ्वी का सस्पेंशन मार्च से लागू होगा, शॉ का सस्पेंशन 16 मार्च 2019 से 15 नवंबर 2019 मिड नाइट तक लागू रहेगा.

पृथ्वी के अलावा ये भी हुए सस्पेंड

पृथ्वी शॉ के अलावा आज बीसीसीआई ने राजस्थान के लिए खेलने वाले युवा खिलाड़ी दिव्या गजराज और विदर्भ के लिए खेलने वालेअक्षय डुल्लरवार को भी 8 महीने के लिए सस्पेंड कर दिया है.

पृथ्वी का क्रिकेटर करियर

पृथ्वी शॉ अभी युवा क्रिकेटर हैं और उनकी उम्र अभी 19 साल ही है, लेकिन उनमें क्रिकेट की काबिलियत कूट कूट के भरी हुई है, तभी तो इतने कम उम्र में ही टीम इंडिया से डेब्यू कर चुके हैं, और टेस्ट क्रिकेट में शतक भी लगा चुके हैं, पृथ्वी युवा टैलेंटेड सलामी बल्लेबाज हैं, पृथ्वी शॉ ने टीम इंडिया से खेलते हुए टेस्ट क्रिकेट में 2 मैच में 1 शतक और 1 अर्धशतक लगाया है, और अब तक 118.50 की औसत से 237 रन बनाए हैं.