कोरबा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. बीबी बोर्डे ने कहा कि सिटी सेंटर तो नहीं पर कोरबा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को जल्द ही सर्वसुविधायुक्त शहरी स्वास्थ्य केंद्र बनाएंगे। यहां विशेषज्ञ चिकित्सकों के साथ ही सभी अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। जिला चिकित्सालय में जल्द ही डायलिसिस सेंटर की शुरूआत भी होगी। बर्न यूनिट स्थापना का काम स्वीकृत हो चुका है।
पत्रकारों से चर्चा करते हुए सीएमओ डॉ. बोर्डे ने कहा कि जिलेवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा दिलाने लगातार प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय को सर्वसुविधायुक्त बनाने की कोशिश जारी है। विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी भी शीघ्र ही दूर कर ली जाएगी। इससे मरीजों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। उम्मीद है कि एक साल के भीतर जिला चिकित्सालय में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर हो जाएंगी। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होने कहा कि विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी दूर करने डीएमएफ से भर्ती की जा रही हैए सिर्फ शर्त इतनी है कि ये चिकित्सक बाहर प्रेक्टिस नहीं कर सकेंगे। शासन ने इस पर सहमति जता दी है। डॉ. बोर्डे ने कहा कि जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के साथ ही 14 निजी हास्पिटल में स्मार्ट कार्ड व आयुष्मान कार्ड से इलाज की सुविधा लागू है। इसमें चार सौ से ज्यादा बीमारी का इलाज किया जाना है। मरीज अपने कार्ड के संबंध में 104, 14555 नंबर से जानकारी ले सकते हैं। इससे उन्हें इलाज कराने में परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। निजी चिकित्सालय में कार्ड के बाद भी राशि मांगे जाने की शिकायत आने पर जांच पड़ताल की जाती है और रिपोर्ट बना कर प्रशासन को भेजी जाता है। ट्रामा सेंटर में शासकीय दर के मुताबिक राशि ली जा रही है, इसके साथ ही सेंटर ने भी अपनी राशि में कटौती की है।
एक साल के अंदर मेडिकल कॉलेज की सौगात
सीएमओ डॉ. बोर्डे ने कहा कि यहां मेडिकल कॉलेज खोलने के सभी आवश्यक संसाधन उपलब्ध हैं। टीम ने भी निरीक्षण कर लिया है। दो दिन पहले स्वास्थ्य सचिव का प्रवास भी इन्हीं मुद्दों को लेकर हुआ था। केंद्र सरकार की योजना के तहत मेडिकल कॉलेज स्थापित किया जाएगा। पढ़ाने के विषय विशेषज्ञ चिकित्सको की भर्ती की जाएगी। उम्मीद है कि एक वर्ष के भीतर कॉलेज शुरू हो जाएगा। इसके साथ ही जिले के निवासियों को बेहतर चिकित्सा सुविधा भी मिलने लगेगी।