प्रतापपुर। हाथी प्रभावित स्कूलों में सुरक्षा के मदद्देनजर समय परिवर्तन के बाद बच्चों की सुरक्षा के लिए एक और कदम और कदम उठाया जा रहा है। प्रतापपुर ब्लाक के हाथी प्रभावित क्षेत्रों के छात्रावासों में सोलर फेंसिंग लगाई जाएगी। फिलहाल पांच छात्रावासों का चयन किया गया है और बीईओ के इस सुझाव पर सहायक आयुक्त सूरजपुर ने सहमति देते हुए शीघ्र काम कराने कहा है।
गौरतलब है कि प्रतापपुर ब्लाक के अधिकांश गांव हाथी प्रभावित हैं जिनमें स्थित स्कूलों और बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंता उत्पन्न होने लगी है। कुछ दिन पहले प्रभावित क्षेत्र में स्कूलों के संचालन का समय परिवर्तन को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी ने आदेश जारी किया था। वन विभाग भी बच्चों को सुरक्षित घर तक छोडऩे का काम कर रहा है। अब प्रभावित क्षेत्रों में स्थित छात्रावासों को सुरक्षित करने पहल चालू हो गई है और इनमें शीघ्र सोलर फेंसिंग कराने की बात कही जा रही है।बीईओ जनार्दन सिंह ने मण्डल संयोजक प्रमोद गुप्ता से चर्चा कर प्री मैट्रिक कन्या छात्रावास हरिहरपुर,प्री मैट्रिक बालक छात्रावास धरमपुर,प्री मैट्रिक बालक छात्रावास रमकोला,प्री मैट्रिक बालक छात्रावास जजावल और बालक आश्रम जजावल जो हाथियों की दृष्टि से अति संवेदनशील हैं,की सूची बनाकर सहायक आयुक्त कार्यालय भेज दी है जिनका सोलर फेंसिंग से घेराव किया जाएगा।जानकारी देते हुए बीईओ ने बताया कि ये छात्रावास संवेदनशील हैं जहां हाथियों का आना जाना लगा रहता है,इनमें चावल सहित अन्य राशन का भंडारण बड़ी तादाद में रहता है जिनके गन्ध से हाथियों के छात्रावासों के समीप आने का डर बना रहता है।हालांकि अब तक ऐसी कोई घटना नहीं हुई है लेकिन हाथियों के आसपास होने की वजह से वहां रहने वाले बच्चे डरे सहमे रहते हैं,छात्रावासों को हाथियों से सुरक्षित रखने कोई दूसरा उपाय नहीं है इसलिए इन्हें सोलर फेंसिंग से घेराव करने के उपाय पर विचार हुआ जिससे उन्होंने सहायक आयुक्त सूरजपुर विश्वनाथ रेड्डी को अवगत कराते हुए इस पर विचार करने आग्रह किया और सहायक आयुक्त ने मामले की गंभीरता समझते हुए सोलर फेंसिंग लगाए जाने पर सहमति दे दी है और शीघ्र इसका काम कराने की बात कही है।बीईओ ने कहा कि वर्तमान में पांच छात्रावासों का चयन किया गया है लेकिन भविष्य में अन्य छात्रावासों के साथ स्कूलों में भी सोलर फेंसिंग लगवाने प्रयास करेंगे ताकि छोटे बच्चों को हाथियों से सुरक्षित और भयमुक्त रख सकें।
सोलर प्लेट के करंट से बचने सजग रखेंगे बच्चों को-
सोलर फ्रंसिंग में सोलर प्लेट के माध्यम से हल्का करंट प्रवाहित होता है जिसके कारण हाथी इसके पास नहीं आते,यह करंट बच्चों के लिए भी खतरा हो सकता है,पर बीईओ ने कहा कि करंट बहुत हल्का होता है जो खतरनाक नहीं होता।लेकिन सिर्फ हल्का करंट समझ कोई असावधानी नहीं बरतेंगे और छात्रावासों के बच्चों को सोलर फेंसिंग के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए सजग रहने प्रशिक्षित करेंगे। फेंसिंग के आसपास कई जगह सूचना पट्टी भी लगाई जाएगी, ताकि बच्चों के साथ बाहरी लोग भी सतर्क रहें और करंट युक्त फेंसिंग तार को न छुएं, साथ ही हाथियों के आसपास न होने की स्थिति में करंट के प्रवाह को बन्द भी रखेंगे।