कोरबा. जिले में हाथी समस्या कम होने के बजाय बढ़ती जा रही है। जिले के कोरबा एवं कटघोरा वनमंडल में 92 हाथी लगातार विचरण कर रहे हैं और ग्रामीण क्षेत्रों में धान की खरीफ फसल समेत रबी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं जिससे ग्रामीण काफी चिंतित हैं। बड़ी संख्या में हाथियों के पहुंचने से वन विभाग भी सकते में आ गया है। विभाग की ओर से हाथियों की लगातार निगरानी की जा रही है लेकिन वह उत्पात को रोकने में विफल रहा है। जानकारी के अनुसार वनमंडल कटघोरा के केंदई रेंज के कोरबी सर्किल में 30 हाथी मौजूद हैं। इन हाथियों ने यहां 10 से अधिक किसानों की धान की फसल रौंद दी है जिससे संबंधितों को हजारों रुपए का आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है। जिले के कोरबा वनमंडल के बालकोनगर रेंज में 22 हाथियों की मौजूदगी पिछले सप्ताह से बनी हुई है। ये हाथी बीती रात रूमगरा के समीप सोनपुरी पहुंच गए। हाथियों ने यहां की बड़ी मात्रा में फसलें रौंद दी। हाथियों के सोनपुरी पहुंचने व 10 किसानों के फसल को नुकसान पहुंचाए जाने की सूचना पर वन विभाग का अमला मौके पर पहुंच गया है और नुकसानी का सर्वे करने के साथ ही हाथियों की निगरानी में जुट गया है। लोगों को हाथियों के आने की जानकारी देते हुए सतर्क कर दिया गया है। कोरबा वनमंडल के कुदमुरा रेंज में 40 हाथी तौलीपाली जंगल में घूम रहे हैं। इनमें खूनी दंतैल गणेश के अलावा एक अन्य लोलर शामिल है। गणेश के पहुंचने से क्षेत्र में हड़कंप मचा हुआ है। हाथियों के इस दल ने भी अनेक ग्रामीणों की फसल तहस-नहस की है।