चांपा। नगरपालिका चुनाव के लिए शनिवार से नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके साथ ही चांपा नगरपालिका के वार्ड नंबर 17, 22 और 23 के लोगों ने नगरपालिका चुनाव बहिष्कार का ऐलान किया है। इतना ही नहीं, रास्ता नही तो वोट नहीं का नारा उन्होंने बिर्रा फाटक के दोनों ओर चस्पा कर दिया है। इस खबर से रेलवे प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है।
आपको बता दें कि चांपा के बिर्रा फाटक पर बीते सात सालों से ओवरब्रिज का निर्माण हो रहा है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों की उदासीनता और प्रशासनिक लापरवाही के चलते अब तक काम अधूरा है। इस अधूरे ब्रिज की वजह से जहां आम लोग बेहद परेशान है तो वहीं फाटक के आसपास दुकानदारी करने वाले दो सौ से ज्यादा व्यवसायियों के सामने रोजी रोटी की समस्या खड़ी हो गई है। दो साल पहले रेलवे ने बची कसर रेलवे फाटक को बंद कर पूरी कर दी है। इस फाटक के बंद होने से पैदल आवाजाही पर भी रोक लग गया। इस फ ाटक को खुलवाने के लिए चांपा संघर्ष समिति और चेंबर्स के बैनर तले पहले नगाड़ा बजाओ आंदोलन किया गया। इसके बाद रेल रोको आंदोलन भी हुआए तब रेलवे के अफसरों ने एक माह के भीतर फाटक को खोलने का आश्वासन दिया था। हालांकि इस बीच रेलवे ने बिर्रा फाटक में पैदल आवाजाही के लिए रास्ता तो बना दिया है लेकिन रेलवे शायद फाटक को खोलने के मूड में नहीं है। ऐसे में एकबार फिर से चांपा के तीन वार्डों में नगरपालिका चुनाव बहिष्कार का ऐलान कर दिया है। अब देखना होगा कि इस ऐलान के बाद रेलवे के अफसर नींद से जागते हैं या नहींए या फिर जिला प्रशासन इस गंभीर समस्या से लोगों को राहत दिलाने क्या पहल करता है।