रायपुर, 02 दिसम्बर [एजेंसी]।
विधानसभा में सोमवार को नान घोटाले का मामला गूंजा। इस दौरान पूर्व सीएम रमन सिंह और सीएम भूपेश बघेल के बीच सवाल – जवाब हुए।
पूर्व सीएम रमन सिंह ने शासन द्वारा वकीलों की नियुक्ति को लेकर सवाल किया। उन्होंने पूछा कि नॉन प्रकरण में शासन द्वारा किन-किन निजी वकीलों को नियुक्त किया गया है। इसका जवाब देते हुए सीएम भूपेश बघेल ने कहा नान मामले में सरकार ने हरीश साल्वे , रविन्द्र श्रीवास्तव और पी चिदंबरम सहित पांच वकील रखे थे।
जिसके बाद रमन सिंह ने कहा कि हरीश साल्वे और रविन्द्र श्रीवास्तव बिलासपुर हाईकोर्ट नहीं आए। उसके बाद भी उनके द्वारा जिरह करने की सदन में सत्तापक्ष ने जानकारी दी है। हरीश साल्वे को 81 लाख का भुगतान हुआ है, पी चिदम्बरम को 60 लाख 3 हजार का भुगतान किया गया है। सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि जिन्होंने खुद बाहर से वकील लगाया था वे आज पूछ रहे हैं कि बाहर से वकील क्यों मंगाया। उन्होंने कहा कि रमन सिंह के कार्यकाल में कितने वकील बाहर से आए और किस काम के लिए आए, उनको कितना भुगतान किया गया, इसकी पूरी सूची मेरे पास है। पूर्व सीएम रमन सिंह ने आरोप लगाया कि प्रदेश का धन लुटाया जा रहा है। जिसके बाद भूपेश बघेल ने आपत्ति दर्ज कराई, उन्होंने कहा कि यह गलत बोला जा रहा है। जिसके बाद सदन में हंगामा हो गया।