जांजगीर-चांपा। कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक ने अब धान खरीदी के लिए जारी किये जाने वाले टोकन में संबंधित समिति के प्रबंधक और एईआरओ का हस्ताक्षर अनिवार्य रूप से कराने के निर्देश दिये हैं। कलेक्टर ने खरीदी केन्द्र प्रभारियों से कहा कि वे समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी में लघु और सीमांत किसानों को प्राथमिकता के साथ पहले टोकन जारी करें। वहीं धान खरीदी के लिए सीमित दिवस शेष रहने के मद्देनजर कोंचिए, वास्तविक किसानों की पर्ची का दुरूपयोग कर धान न खपा पाएं, इसके लिए सतर्कता बरतने के लिए कहा।
कलेक्टर कार्यालय सभाकक्ष में आज खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में किसानों से समर्थन मूल्य पर की जा रही धान खरीदी की कलेक्टर द्वारा समीक्षा की गई। कलेक्टर ने बैठक में उपस्थित पर्यवेक्षकों को उक्त निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने कहा कि अब जारी किये जा रहे टोकन में कम्प्यूटर ऑपरेटर के साथ-साथ कृषि विस्तार क्षेत्र अधिकारी और संबंधित समिति प्रबंधक का भी हस्ताक्षर अनिवार्य रूप से कराया जाए। उन्होंने कहा कि समर्थन मूल्य पर धान खरीदी वास्तविक किसानों से ही हो यह सुनिश्चित किया जाय। कलेक्टर ने कहा कि यदि किसी व्यक्ति को गलत टोकन जारी होगा, तो संबंधित केन्द्र के प्रबंधक और धान खरीदी प्रभारी जवाबदार माना जाएगा और उनके विरूद्घ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर ने सभी एसडीएम, तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों, से कहा कि वे धान खरीदी केन्द्रों का सतत निरीक्षण करें और उक्त निर्देशों का कड़ाई से पालन करायें। उन्होंने ऐसे धान खरीदी केन्द्र जहां धान का अधिक संग्रहण हो गया है वहां से धान का परिवहन शीघ्र कराने कहा। उन्होंने एसडीएम से कहा कि वे अपने अनुविभाग के सभी धान खरीदी केन्द्र प्रभारियों की बैठक लें और धान खरीदी के संबंध में दिये गये निर्देशों से उन्हें अवगत करायें। कलेक्टर ने उप संचालक कृषि को निर्देशित कर कहा कि जिन एईआरओ की ड्यूटी धान खरीदी केन्द्रों में लगी है, वे वहां धान खरीदी की अंतिम तिथि 15 फरवरी तक अनिवार्य रूप से उपस्थित रहें। बैठक में खाद्य अधिकारी अमृत कुजूर सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद थे।