छत्तीसगढ़ पुलिस के सस्पेंड सीनियर IPS अफसर जीपी सिंह को शुक्रवार शाम को कोर्ट में पेश किया गया। जीपी सिंह को लीना अग्रवाल की अदालत में पेश किया गया। पुलिस की तरफ से कहा गया कि जीपी सिंह जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। 5 दिनों की रिमांड पुलिस की तरफ से मांगी गई। अदालत ने 4 दिनों की रिमांड स्वीकृत कर दी।

अदालत से बाहर आते हुए जीपी सिंह ने कहा ये पॉलिटिकल विक्टमाइजेशन का केस है , मैं शुरू से कह रहा हूं। नागरिक आपूर्ति निगम की जांच कर रहा था तब गवाहों को हॉस्टाइल करने कहा गया, इस मामले में रमन सिंह और वीणा सिंह को फंसाने कहा गया। जांच में सहयोग न करने के सवाल पर जीपी सिंह ने कहा मैंने खुद कहा है, रिमांड जितनी चाहिए ले लो, और 15 दिन चाहते हैं तो ले लो।

जीपी सिंह के वकील आशुतोष पांडे ने बताया कि जीपी सिंह की रिमांड पर हमें कोई आपत्ति नहीं है, अदालत ने 18 तारीख दोपहर दो बजे तक उन्हें रिमांड पर भेजा है। रिमांड अवधि पूरी होगी तो हम जमानत का आवेदन करेंगे। जीपी सिंह के वकील ने भी उन पर लगे आरोपों को राजनीति से प्रेरित प्रकरण बताया। इससे पहले बुधवार को जीपी सिंह को कोर्ट में पेश किया गया था। तब अदालत ने दो दिनों की रिमांड पर भेजा था। जीपी सिंह ने दो रातें ACB के दफ्तर में ही बिताईं। दफ्तर में ही उनके सोने के लिए बेड का बंदोबस्त किया गया था, यहीं उनके खाने-पीने की व्यवस्था की गई।

अब उम्मीद जताई जा रही है कि जीपी सिंह से उनके घर से जब्त की गई संपत्ति के दस्तावेज और अन्य सबूतों के बारे में फिर से पूछताछ करेगी। जीपी सिंह ने जांच में सहयोग करने का भरोसा दिलाया है।

जीपी बोले- FIR ही गलत
दो दिन पहले कोर्ट में पेश किए जाने के दौरान जीपी सिंह कह चुके हैं कि जो FIR उनके खिलाफ दर्ज की गई है वो पूरी तरह से गलत है। जो संपत्ति उनके नाम बताई जा रही है वो उनकी नहीं है और ना ही उनका उससे कोई लेना-देना है। उन्होंने तब कहा था कि ये पूरा केस फैब्रीकेटेड (रचा हुआ) है।

इस वजह से जीपी पुलिस कस्टडी में

🔹️1जुलाई की सुबह 6 बजे ACB-EOW की टीमों ने रायपुर, राजनांदगांव और ओडिशा में एक साथ छापा मारा।
🔹️जीपी सिंह पर FIR दर्ज की गई। दूसरे दिन शुक्रवार को दिन भर की जांच के बाद 5 करोड़ की चल-अचल संपत्ति का खुलासा हुआ। 10 करोड़ की संपत्ति मिलने और इसके बढ़ने की आधिकारिक जानकारी दी गई।
🔹️रायपुर में एक युवक से मारपीट, भिलाई में सरेंडर करने वाले नक्सल कमांडर से रुपयों का लेन-देन, रायपुर में एक केस में आरोपी की मदद का इल्जाम भी जीपी सिंह पर लगा है। इन पुराने केस की फिर से जांच की जा रही है।
🔹️इन तमाम मामलों के बीच 5 जुलाई को राज्य सरकार ने ADG जीपी सिंह को एक आदेश पत्र में यह लिखते हुए निलंबित कर दिया कि एक अफसर से ऐसी अपेक्षा नहीं थी।

Previous articleअर्जी खारिज:हाईकोर्ट में नौकरी लगाने के नाम पर की ठगी हाईकोर्ट से ही मांगी जमानत
Next articleऑनलाइन फ्रॉड:फाेन-पे कस्टमर केयर पर किया संपर्क, 5 लाख पार